कंपनीवाले रूममेट भैया ने मेरी गांड मारी: गांड चुदाई गे कहानी


New Sex Stories in
Telugu    Hindi   Kannada   Malayalam   Tamil

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं गे सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “कंपनी वाले रूममेट भैया ने मेरी गांड मारी – गांड चुदाई गे कहानी”। मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

मेरा नाम सोनू है, मैं कानपूर में रहता हूँ। मैं अभी 20 साल का हूं. मैं दिखने में चिकना और सुन्दर हूँ. मुझे हर कोई पसंद है, लड़का, लड़की, अंकल, आंटी।

मैं यह कहानी तब की बताने जा रहा हूँ जब मैं काम करने के लिए गुड़गांव गया था। मुझे वहां एक फैक्ट्री में नौकरी मिल गई लेकिन मुझे पता नहीं था कि कहां रहना है।

तभी वहां काम करने वाले एक भाई ने कहा- तुम हमारे साथ रहो, यह कंपनी का अपना कमरा है, तुम्हें किराया भी नहीं देना पड़ेगा। मैंने भी सोचा कि अच्छा है, फोकट में रहने को मिल रहा है…इसमें हर्ज क्या है?

वह एक छोटा सा कमरा था और वहाँ एक बिस्तर था। हम दोनों को एक ही बिस्तर पर सोना पड़ा. मैंने सोचा कि कोई बात नहीं, सोना ही पड़ेगा. (गांड चुदाई गे कहानी)

मैंने पूरा दिन काम किया और शाम को घर आ गया. वो भाई बोला- छोटे… तुम नहा लो, अच्छा लगेगा।
मैंने कहा- हां भाई, मुझे नहाना पड़ेगा, मैं बहुत थक गया हूं.

उस वक्त मैं जवानी की दहलीज पर था. मैं दिखने में बहुत मासूम था, जो अब भी हूं.

फिर मैं नहाया और हम खाना बनाने लगे. खाना बनाने के बाद हम दोनों ने खाना खाया. फिर थोड़ी बातचीत करने लगे, इधर-उधर की बातें करने लगे।

बातें करते-करते हम दोनों सो गये। वहाँ केवल एक ही बिस्तर था, इसलिए हम एक साथ सोते थे।

आधी रात के करीब मुझे भाई का हाथ अपनी गांड पर महसूस हुआ. मैं बिना आंखें खोले ये समझने की कोशिश करने लगा कि ये सब नींद में हो रहा है या सच में भाई मेरी गांड को सहला रहा है.

कुछ ही देर में मैं समझ गया कि भाई जाग रहा है. वो मेरे नितंबों को सहला रहा था.

पहले तो मुझे गड़बड़ जैसा लगा. लेकिन पता नहीं क्यों… मुझे भी अच्छा लगा.

फिर उसने अपना हाथ मेरे अंडरवियर के अंदर डाल दिया और मेरी गांड को सहलाने लगा, जिससे मुझे अच्छा महसूस होने लगा. अब तक मेरा लंड भी खड़ा हो चुका था. (गांड चुदाई गे कहानी)

उसके बाद उसने मेरा अंडरवियर उतार दिया. अंडरवियर उतारते समय मैंने अपनी कमर थोड़ी ऊपर उठा दी ताकि अंडरवियर उतारने में कोई दिक्कत न हो. इससे उसे भी समझ आ गया कि मुझे भी मजा आ रहा है.

मैं भी जानता था कि आज भाई मेरी गांड चोदने वाला है. मैं भी अपनी गांड मरवाने के मूड में था.

अब उसने बेखौफ होकर मुझे नंगा कर दिया और मेरी गांड सहलाने लगा. कभी-कभी भाई अपना हाथ आगे बढ़ाकर मेरा लंड भी हिलाने लगता था. उन्हें एहसास हुआ कि मैं जाग रहा हूं और मजा ले रहा हूं, तो भैया ने मेरा चेहरा घुमा दिया और मुझे चूमने लगे. मैं भी उसे चूमने लगा.

नीचे से उसका लंड मेरी नंगी गांड पर रगड़ खा रहा था. फिर उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपने लिंग पर रख दिया. जब मैंने अपने भाई का लंड पकड़ा तो पता चला कि वो ज्यादा बड़ा नहीं था. लेकिन मुझे भाई का लंड बहुत पसंद आया, वो बहुत सख्त था.

मैं अपने हाथ से उसके लिंग को सहलाने लगा. वो मेरे नितंबों को भी सहला रहा था. बीच-बीच में वो मेरी गांड को भी चूम रहा था. मैं सातवें आसमान पर था. मैं सोच रहा था कि आज मेरे साथ क्या होने वाला है.

फिर उसने कहा- सोनू, मजा आ रहा है क्या?
मैंने कहा- हां, बहुत मजा आ रहा है.

उसने कहा- कुछ देर बाद और मजा आएगा.
मैंने पूछा- कैसे?
उसने बताया- मैं बताऊंगा.

You can install this Beep Stories Web App to get easy access

फिर उसने एक उंगली मेरी गांड में डाल दी. उफ़्फ़… मुझे थोड़ा दर्द हुआ क्योंकि गांड सूखी थी।
मैंने कहा- भाई दर्द हो रहा है. (गांड चुदाई गे कहानी)

उसने उंगली पर थोड़ा थूक लगाया और उंगली फिर से मेरी गांड में डाल दी. इस बार उंगली आसानी से अन्दर चली गयी और मुझे भी मजा आया. मैं अपनी गांड हिलाने लगा.

कुछ देर बाद भाई ने दूसरी उंगली अन्दर डाल दी, लेकिन थूक से गीली होने के कारण मुझे ज्यादा दर्द नहीं हुआ और मजा आने लगा.

वो मेरी गांड में उंगली कर रहा था और मैं उसका लंड सहला रहा था.

फिर उसने पूछा- सोनू, गांड में लंड डाल दूं क्या?
मैंने कुछ नहीं कहा तो वो समझ गये कि लौंडा गांड मराने के लिए तैयार है.

फिर उन्होंने कहा- तुम पेट के बल लेट जाओ जिससे तुम्हारी गांड ऊपर आ जायेगी.

मैं अपनी गांड ऊपर करके उल्टा सो गया. फिर उसने थूक लिया और मेरी गांड पर लगाया और अपने लंड पर भी लगाया.

जब वो लंड मेरी गांड में रगड़ने लगा तो मुझे अजीब सा महसूस हो रहा था. वो अपने लंड से मेरी गांड के छेद को रगड़ रहा था. उफ़्फ़… क्या बताऊँ, क्या मस्त अहसास हो रहा था।

फिर उसने अपने लंड को हाथ से पकड़ कर मेरी गांड के छेद पर रखा और धीरे-धीरे घुसाने लगा. (गांड चुदाई गे कहानी)

भाई ने मुझसे कहा- सोनू, अपनी गांड ढीली कर लो, दर्द नहीं होगा.
मैंने वैसा ही किया और अपनी गांड ढीली कर दी. उसी वक्त उसका लंड मेरी गांड में घुस गया.

उम्म्ह… अहह… हय… याह… मुझे थोड़ा दर्द हुआ क्योंकि उसका लंड ज्यादा मोटा नहीं था.. तो अच्छा भी लगने लगा।

फिर उसने अपना थोड़ा सा लंड निकाला और मेरी गांड में डाल दिया. इस बार भी उसने धीरे से डाला और अपना पूरा लंड अन्दर डाल दिया.

आह… मुझे उसका लंड अपनी गांड में महसूस हो रहा था और मजा आ रहा था. मैं अपने दोनों हाथों से अपने नितंबों को फैला रहा था, ताकि वो अपना लंड मेरी गांड में और अंदर तक पेल सके.

फिर उसने अपना लंड मेरी गांड में अंदर-बाहर करना शुरू कर दिया और बोला- सोनू, तेरी गांड बहुत मुलायम है… तुझे मजा आ रहा है ना? मैंने कहा- हां, बहुत मजा आ रहा है. (गांड चुदाई गे कहानी)

मैं आह उफ़ कर रहा था और वो भी जोर जोर से मेरी गांड चोद रहा था. मैं भी अपनी गांड उछाल उछाल कर चुदवा रहा था.

उसने करीब आधे घंटे तक मेरी गांड चोदी और अपना लंड मेरी गांड में अन्दर-बाहर करता रहा. मुझे अपनी गांड मरवाने में बहुत मजा आ रहा था. अब वो मुझे और तेजी से चोदने लगा.

आह क्या मज़ा आ रहा था मुझे…उफ़..

वह तेजी से धक्के मारने लगा और स्खलित हो गया और अपना गर्म वीर्य मेरी गांड में डाल दिया। मुझे ऐसा लगा मानो मुझे राहत मिली हो.

फिर उसने अपना लंड बाहर निकाला और तौलिये से साफ किया और मेरी गांड भी साफ की. फिर हम दोनों नंगे ही एक साथ सो गये. (गांड चुदाई गे कहानी)

सुबह जब वो उठा तो उसका लंड फिर से खड़ा था. वो फिर से मेरी गांड सहलाने लगा. फिर थूक लगा कर फिर से मेरी गांड में अपना लंड डालने लगे.

सुबह गांड मरवा कर मुझे और भी ज्यादा मजा आया.

उसके बाद मैंने वहां करीब दो महीने तक काम किया. मैं हर रात भाई से अपनी गांड मरवाने लगा. वो मेरे पति जैसा हो गया था और मैं उसकी जोरू बन गया था.

आपको मेरी गांड चुदाई की कहानी कैसी लगी, कृपया मुझे ईमेल करके बताएं.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप wildfantasy की “Hindi Gay Sex Stories” की कहानियां पढ़ सकते हैं।