भाभी ने अपनी गीली चूत चटवायी


New Sex Stories in
Telugu    Hindi   Kannada   Malayalam   Tamil


Lesbian Bhabhi ki Bur Chatai कहानी में पढ़ें कि मैं अपनी सहेली के साथ लेस्बियन सेक्स का मजा लेती थी. वह पढ़ने के लिए बाहर गयी थी. उसने अपनी भाभी से मेरी सेटिंग करवाई.

दोस्तो, मेरी सभी खूबसूरत महिलाओं और शौकीन पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्कार।

आशा है कि आप सभी को Lesbian Bhabhi ki Bur Chatai Kahani पसंद आएगी।

मेरा नाम जिया है.मैं 28 साल की शादीशुदा महिला हूं.मेरा रंग गोरा है, मेरे स्तन 36D, कमर 32″ और मेरी मस्त गोल गांड 38″ है।

वैसे दोस्तो, मैं आपको बता दूँ कि मैं एक शौकीन लड़की हूँ लेकिन मुझे और बेहतर बनाने में मेरी दोस्त तापसी भाभी का बहुत बड़ा हाथ है।

मेरे दोस्त की भाभी, सविता, 30 साल की शादीशुदा महिला है, उसका रंग दूधिया है, उसकी आँखें बहुत गोरी हैं, उसके होंठ गुलाब की पंखुड़ियों की तरह हैं, उसके गाल बहुत मुलायम हैं, उसके Big Boobs 38 के हैं और निपल्स काले हैं ताकि वे ध्यान देने योग्य न हों।साड़ी में से नाभि ऐसी दिख रही थी मानो कयामत लग रही हो, कमर 32″ की एकदम कंटीली, सांप की तरह ताकत खा रही थी, जांघें एकदम चिकनी और उन पर हाथ इतने फिसलन भरे थे कि तेल की जरूरत ही नहीं पड़ी और नितम्ब बिल्कुल 36″ के गोल थे.

उसकी गांड मेरी Moti Gand से थोड़ी पतली है.उनकी खूबसूरती के आगे बड़ी से बड़ी हीरोइनें भी फेल हैं।

एक बात और… सविता भाभी के पति बिजनेस के सिलसिले में अक्सर बाहर रहते हैं।इसलिए जब भी वह अकेली होती है तो मुझे कंपनी के लिए बुला लेती है।

मेरी सहेली भी जब पढ़ने के लिए बाहर जाती है तो मुझे ही बुलाती है.आख़िर एक औरत ही तो औरत के सुख-दुख में काम आती है.

यह था मेरी सविता भाभी का छोटा सा सुंदर परिचय.मैं उनके सामने कुछ भी नहीं हूं.

तो अब कहानी शुरू होती है.

मेरे दोस्त ने मुझे फोन किया और कहा- सविता भाभी की तबीयत खराब है, इसलिए तुम्हें उनका ख्याल रखने के लिए कुछ देर के लिए चले जाना चाहिए.मैंने कहा- क्यों नहीं!

और मैंने जल्दी से कार निकाली और उसके घर पहुंच गया.

घर से निकलते समय जल्दबाजी में मैंने ध्यान ही नहीं दिया कि मैंने क्या पहना है.मैं सिर्फ प्लाज़ो और ऊपर से दो खुले बटन वाली सफेद शर्ट पहनकर उसके घर पहुँची, वो भी बिना ब्रा के।

जैसे ही मैं घर पहुंचा तो सविता भाभी का बिस्तर देख कर दंग रह गया.क्या कमाल की टाइट लाल टी-शर्ट थी, जिसमें से ब्रा हाईलाइट हो रही थी और उसमें से उभरे हुए नुकीले निपल्स, नीचे काली स्कर्ट और उसमें से दिख रही खूबसूरत गोरी-सफ़ेद सेक्सी टाँगें… और अगर आपने थोड़ा ऊपर देखा, तो आपने देखा चिकनी जांघें!

अचानक उसने मेरी आँखों पर चुटकी ली और बोली- कहाँ खो गये? ऐसे क्या देख रहे हो?और अपनी स्कर्ट को थोड़ा ऊपर उठाते हुए बोली- क्या तुम्हें इससे भी ज्यादा कुछ देखना है?

मैं एकदम से चौंक गया- क्या भाभी, मुझे कुछ समझ नहीं आया!तो वो तुरंत मेरे पास आई, मेरी आँखों में देखा और मेरा बिस्तर अपने दोनों हाथों में ले लिया और बोली- बेडरूम में आओ, मैं सब समझाती हूँ।और वो मेरा हाथ पकड़ कर मुझे अपने बेडरूम में ले गयी.

अंदर बेडरूम का नज़ारा देख कर मैं तो अपने होश ही खो बठी।उन्होंने इसे बहुत खूबसूरती से सजाया था.

बिस्तर गुलाबों से महक रहा था, परफ्यूम की खुशबू, ए.सी. की ठंडी हवा और भाभी खुद ऊपर से नीचे तक महक रही थीं।

मैंने पूछा- भाभी, आपकी तबियत ख़राब थी ना? तो फिर ये सब क्या है? क्या आपने पार्टी की तैयारी के लिए फोन किया था?

तो भाभी ने मेरे गले में बाहें डाल दीं और बोलीं- मेरी जिया डार्लिंग, वो तो सिर्फ बीमार होने का बहाना था और तुम्हें बुलाने का!मैंने पूछा- क्यों?तो उन्होंने मेरे गाल को सहलाया और कहा- मुझे तुम्हारे और तापसी के बारे में सब पता है. तुम भी शादीशुदा हो और मैं भी.मैंने घबरा कर पूछा- क्या?तो वो बोली- ये सब मैं तुम्हें बाद में बताऊंगी.

इतना कहते ही उसने शयनकक्ष का दरवाज़ा बंद कर दिया।

मुझे समझ नहीं आ रहा था कि मैं क्या प्रतिक्रिया दूं?

अब तक मैं अंदर से इतनी गर्म हो चुकी हूँ कि पूछो ही मत!इससे पहले कि मैं कोई प्रतिक्रिया देता, सविता भाभी ने तुरंत मेरे स्तन सहलाना शुरू कर दिया।

जैसे ही उसके मुलायम हाथ मेरे बूब्ज़ पर पड़े, मेरे बूब्ज़ टाइट हो गये और मैं एक अलग ही दुनिया की सैर करने लगी।

Lesbian Bhabhi ki Bur Chatai करते हुए थोड़ी देर में भाभी बिल्कुल झड़ गयी.

हम दोनों एक दूसरे के सामने थे और एक दूसरे की आंखों में देख रहे थे.

शर्म के कारण मैं उससे नजर नहीं मिला पा रहा था.तो उन्होंने मुझे प्रोत्साहित करते हुए कहा- जिया, तुम्हें बिल्कुल भी शरमाने की जरूरत नहीं है.

उसने मेरे चूचों पर हाथ रखा और बोली- जो तुम्हारे पास है, वो मेरे पास भी है.ये सुनते ही मैं शर्म से लाल हो गयी.

ऐसी मोहक बातें सुनकर मैं और भी कामुक हो गया।मुझे पसीना आ रहा था.

मेरी हालत देख कर भाभी ने तुरंत मेरे होंठों को अपने होंठों में दबा लिया.ये सब खड़े खड़े हो रहा था.

और धीरे धीरे मैं भी ढीली पड़ गयी और उसका साथ देने लगी.मैं भी उसके होंठों को चूमने लगा.

फिर धीरे-धीरे होंठों को चूमा और एक-दूसरे को कसकर गले लगा लिया और भाभी पीछे से मेरी गांड को सहलाने लगीं।

दोस्तो, मैं आपको बता नहीं सकता कि मुझे कितना मज़ा आ रहा था।

हम दोनों जिस्म की भूखी औरतें एक दूसरे को पाने के लिए पागल हो रही थीं।

इसी बीच मैं भाभी के मम्मों को सहलाने लगा.भाभी ने पूरा साथ देते हुए अपनी टी-शर्ट और ब्रा उतार दी और भाभी ने मेरी शर्ट भी उतार दी.

अब हम दोनों खूबसूरत औरतें एक दूसरे की खूबसूरती को निहार रही थीं.वो दोनों एक दूसरे के स्तनों को छू रहे थे, निपल्स एक दूसरे से टकरा रहे थे।

हम एक दूसरे को चिढ़ा रहे थे कि किसके स्तन ज़्यादा सेक्सी हैं।लेकिन हमारी समझ इतनी अच्छी हो गई कि हम एक-दूसरे की तारीफ करने लगे.

कभी वो मेरे मम्मे दबाती तो कभी मैं उसके मम्मे मुँह में ले लेता.बहुत मजा आ रहा था.

भाभी बोलीं- जिया, तुम नहीं जानती कि तुम कितनी हॉट और कामुक हो. मुझसे भी ज्यादा.

मैंने भाभी से कहा- नहीं भाभी, आप तो मुझसे भी अच्छी लगती हो.तो भाभी बोलीं- ठीक है, ऐसी बात है!

और उसने मुझे बिस्तर पर पटक दिया और मेरे ऊपर लेट गई और मेरे होठों को चूमने लगी।मैं चाह कर भी मना नहीं कर पाई क्योंकि मैं भी एक शादीशुदा औरत थी और मैं शारीरिक रूप से भूखी भी थी.

वो मेरे होंठों को चूमते हुए मेरे दोनों Sexy Big Boobs को सहलाने लगी.इससे मेरे स्तन बहुत टाइट हो गये और मेरे निपल्स बहुत नुकीले हो गये.

वो मेरी चुचियों को सहलाने लगी.भाभी एक हाथ से पूरे बूब और दूसरे हाथ से निपल्स को सहला रही थी और मेरे होंठों को भी चूस रही थी।

मुझे बहुत मज़ा आ रहा था!अब मैंने भी शर्म छोड़ दी और भाभी का पूरा साथ देने लगा.

मैं भी उसके मम्मों को सहलाने लगा.कसम से दोस्तो, इतना मजा आ रहा था कि बता नहीं सकता.

अचानक भाभी ने मेरा प्लाज़ो उतारे बिना ही अपना हाथ अंदर डाल दिया और मेरी Pink Chut को रगड़ने लगीं.मैं पूरी तरह से गीला हो गया.

अब मैं भी मस्ती में आ गया और थोड़ा जोर लगाकर भाभी को अपने नीचे लेटा लिया और उनके होंठ चूसते हुए उनकी स्कर्ट ऊपर खींच दी और उनकी चूत में उंगली डालकर सहलाने लगा.भाभी आहें भरने लगीं.

इतने में भाभी बोलीं- अब तुम भी नंगे हो जाओ और मुझे भी नंगी करो.

अब हम दोनों एक दूसरे के सामने बिल्कुल नंगे थे.उसने अपनी बांहें फैला दीं और बोली- जिया, प्लीज़ मेरी चूत को अपने मुलायम होंठों से चाटो.

इतना कहते ही मैंने अपने होंठ Bhabhi ki Tight Chut पर रख दिये.उसने अपनी जीभ मुँह से निकाली और चूत को ऊपर-नीचे, अन्दर-बाहर, अगल-बगल और चारों तरफ चाटने लगी।

कुछ देर बाद मैंने पुरी की पूरी चूत अपने मुँह में ले ली.मैं चूत के साथ-साथ गांड के छेद को भी चाटने लगा.

भाभी मुझे जितना अच्छा लग रहा था उससे ज्यादा कराह रही थी.

भाभी मेरे बालों को सहलाने लगीं.मैं जितना जोर से Chut Chatai, भाभी मुझे उतना ही जोर से पकड़ लेतीं.भाभी की इतनी रसीली चूत मैंने पहले कभी नहीं चाटी थी.

तो भाभी ने कहा- अब मुझे तुम्हारी चूत भी चाटनी है.

उसके बाद भाभी ने मुझे लेटाया और मेरे ऊपर बैठ गईं और अपनी चूत रगड़ने लगीं.इस सब से हम दोनों को और भी मजा आने लगा.

मैंने भाभी को अपने ऊपर पूरा लिटा लिया.अब हम दोनों एक दूसरे के होंठ चूसते, कभी मम्मे दबाते तो कभी निप्पल मुंह में लेते.

जैसे ही मैंने भाभी की चूची मुँह में ली, भाभी एकदम पागल हो गईं और झड़ने लगीं.

भाभी बोलीं- कसम से इतना मजा तो जिंदगी में कभी नहीं आया. तुमने मेरी चूत की गर्मी को शांत कर दिया.और मुझे गले लगा लिया.

वो मुझसे बोलीं- अभी तो तुम्हारी बारी बाकी है. मैं तुम्हारी चूत अच्छे से चाटूंगा.

फिर मैंने भाभी से पूछा- भाभी, आप तो कह रही थीं कि आप मेरे बारे में सब कुछ जानती हैं. तो बताओ तुम क्या जानते हो?

भाभी बोलीं- मैंने भाभी के मोबाइल में तुम्हारे फोटो और चैट पढ़े थे.तो मैं एकदम से डर गया.

मैंने घबराकर पूछा- क्या देखा और क्या पढ़ा?तो वो बोली- तुम दोनों अपनी pussy fingring कैसे दूर करती हो?

ये सुनते ही मैं शर्म से लाल हो गयी.वो बोली- अब शरमाओ मत. तुम्हारी चूत में भी उतनी ही खुजली होती है जितनी मेरी! ये सारा प्लान तुम्हारी दोस्त तापसी का ही था हमें एक साथ लाने का.

यह सुन कर मैं बहुत खुश हुआ और शरमा भी गया.और मैंने मन ही मन अपने दोस्त को धन्यवाद भी दिया.

तो दोस्तों ये थी मेरी कहानी.मेरी चूत अभी तक झड़ी नहीं है.

आपको Lesbian Bhabhi ki Bur Chatai कहानी अच्छी लगी या नहीं?मुझे मेल करके मेरा उत्साह बढ़ायें ताकि मैं इसका अगला भाग भी लेकर आऊं.

इसी के साथ सभी महिला मित्रों और ठरकी नौजवानों को मेरा प्यार भरा नमस्कार!