भाभी ने चुदाई करवाई और चुदाई का सुख भोगा

Beep Stories


नमस्कार दोस्तो, मैं मुंबई से हूं और मेरी उम्र 24 साल है.आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मुझसे “भाभी ने चुदाई करवाई और चुदाई का सुख भोगा”

और हाँ लिंग की लंबाई सामान्य है लेकिन उसका सुपारा मोटा है। ऐसा मेरे दोस्तों ने भी मुझे बताया था. मैंने अपनी ग्रेजुएशन मुंबई से की है. उसके बाद मैं परीक्षा की कोचिंग लेकर गांव आ गया.

मेरी एक गर्लफ्रेंड भी है, लेकिन मौका न मिलने के कारण हम दोनों चाहते हुए भी चूमा-चाटी के अलावा कुछ नहीं कर पाते थे. मैं अपनी गर्लफ्रेंड को चोदना चाहता था, वो भी मेरा लंड अपनी बुर में लेना चाहती थी. लेकिन ऐसा नहीं हो सका.

इसलिए मैं अपनी वासना को अपने हाथ से ही शांत करता था. क्योंकि मैं उससे बहुत प्यार करता हूं और धोखा नहीं देना चाहता था. लेकिन इस कहानी में जो भाभी है वो दिखने में ठीक ठाक है.

उसका फिगर 34-28-36 है तो सोचो वो कैसी दिखती है! मैं बहुत मजाकिया किस्म का हूं इसलिए लोग बहुत जल्दी मेरे दोस्त बन जाते हैं। इसी तरह जब मैं गांव गया तो मेरी दोस्ती मेरे चाचा के लड़के की पत्नी से हो गयी.

मेरे मन में उसके लिए कुछ नहीं था सिर्फ दोस्ती थी. वह मुझे अपनी बातें बताया करती थी और मैं जानता था कि वह अपने पति से ज्यादा खुश नहीं थी। एक दिन वह बीमार पड़ गई तो मुझे उसे अस्पताल ले जाना पड़ा।

वापस आते समय उन्होंने अपने प्यार का इजहार किया। जब मैंने उसे अपनी गर्लफ्रेंड के बारे में बताया तो वह रोने लगी. घर पहुंच कर जब मैंने उसे समझाने की कोशिश की तो वह रोते हुए मेरे गले लग गयी.

मैंने उन्हें हटाने की कोशिश की लेकिन शायद पूरे मन से नहीं। क्योंकि इतने सालों की वासना असर कर रही थी. और फिर उसके हाथ मेरे शरीर पर चलने लगे. मैं खुद पर काबू न रख पाने के कारण उसकी गर्दन पर चूमने लगा.

ऐसा करने से अचानक वो मुझसे और भी जोर से चिपक गयी. उसकी और मेरी सांसें तेज होने लगीं. फिर मैंने भाभी की ठुड्डी ऊपर की और उनके होंठों को चूमना शुरू कर दिया. (भाभी ने चुदाई करवाई)

वो भी आंखें बंद करके मेरा साथ दे रही थी. करीब 5 मिनट तक हम एक दूसरे को चूसते रहे. फिर हम रूम के बाहर थे तो मैंने उसे गोद में उठाया और अंदर ले जाने लगा तो उसने मेरी गर्दन में हाथ डालकर मुझे अपनी तरफ खींच लिया

और किस करते हुए हम बेड पर पहुंच गये. मैंने उसे बिस्तर पर पटक दिया और उसकी तरफ देखने लगा. उसकी आँखें बंद थीं और उसकी साँसें ऊपर-नीचे हो रही थीं।

भाभी को ऐसे देख कर मैं अपने आप को रोक नहीं पाया और झट से उन पर चढ़ गया और पागलों की तरह उन पर किश की झड़ी लगा दी. उसके हाथ मेरी कमर पर फिरते रहे.

जब भी मैं उसकी कान की लौ चूमता तो वो मचल उठती। फिर पहली बार मैंने किस करते हुए उसके मम्मों को पकड़ना और दबाना शुरू कर दिया. इसी बीच उसने मेरी टी-शर्ट उतारने की कोशिश की

तो मैंने खुद ही उतार दि और फिर से उसके ऊपर लेट गया. फिर मैंने अपना हाथ उसकी शर्ट के अन्दर डाला और उसके पेट और मम्मों पर फिराया तो उसकी आह निकल गई.

तो मैं नीचे गया और उसकी नाभि में अपनी जीभ डाल दी, उसके मुँह से सिसकियों की आवाज आने लगी और उसका पेट कांपने लगा। मैं भाभी के पेट और नाभि को चाटता रहा और वो मेरे बालों में हाथ डाल कर मजे से आहें भरती रहीं.

अब मैंने उसकी चूत पर हाथ रखा तो वो एकदम से झिझक गई और बैठ गई और मुझसे लिपट गई. तो मैं फिर से उसके होंठों को चूसने लगा. तभी मैं अचानक से हट गया, तो भाभी ने आंखें खोल कर देखा कि मैं क्यों हट गया.

मैं थोड़ा हंसा तो उसने कहा – कुछ नहीं! वो मुझे ऐसे देख कर खुश हो गयी और फिर से गले लग गयी. फिर मैंने भाभी का कुर्ता उतारने की कोशिश की तो उन्होंने मेरी मदद की. (भाभी ने चुदाई करवाई)

आज पहली बार मैं किसी को अपने सामने ऐसे देख रहा था. मैं विरोध नहीं कर सका और उसकी ब्रा उतार फेंकी और भूखे शेर की तरह उन पर कूद पड़ा।

मैं मुँह से भाभी के निप्पल को चाटने लगा, जीभ से मम्मों के निप्पल को छेड़ने लगा और हाथ से दबाने लगा. उसकी आंखें बंद थीं और वो अपने हाथों से मेरा सिर अपनी छाती पर दबा रही थी.

इस तरह मैं कभी उसके पेट पर, कभी उसकी छाती पर, कभी उसकी गर्दन पर चाटता और चूमता रहा. फिर मैंने उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया. शायद वो इसके लिए तैयार नहीं थी इसलिए उसने अपने पैर भींच लिए.

Visit Us:-

मैं हमेशा से अन्तर्वासना पढ़ता हूं इसलिए मुझे पता था। तभी मैंने सलवार के ऊपर से ही भाभी की चूत पर किस करना शुरू कर दिया. वह सिहर उठी. मुझे भी कुछ गीला सा महसूस हुआ.

उसने खुद ही अपने चूतड़ उठा कर सलवार उतार दी. और फिर मैंने भाभी की चड्डी भी उतार दी. यह मेरा पहली बार जरूर था लेकिन मेरा मानना है कि एक औरत को भी अपनी सेक्स की प्यास बुझाने का पूरा हक है।

और मैंने उसे ओरल सेक्स का मजा देने के लिए अपना मुंह चुत रख दिया और चूमना शुरू कर दिया. मुझे थोड़ा अजीब लगा लेकिन मैं हमेशा सोचता था कि मैं अपने पार्टनर को ये सुख दूंगा. (भाभी ने चुदाई करवाई)

जैसे-जैसे मैं वहां चूम रहा था, उसकी सिसकारियां बढ़ती ही जा रही थीं। शायद भैया ने कभी भाभी की चूत नहीं चाटी होगी. मैं भाभी की चूत चाटता रहा और अपने हाथों से उनके बूब्स दबाता रहा.

पहली बार होने के कारण या इतना टाइम होने के कारण वो ज्यादा बर्दाश्त नहीं कर पाई और 5 या 7 मिनट में ही झड़ गयी. मुझे बहुत नमकीन स्वाद आया लेकिन मैंने उसे पी लिया.

वैसे तो मैंने wildfantasy.in पर सब कुछ पढ़ा है, लेकिन पढ़ने और करने में फर्क होता है। जब उनका काम पूरा हो गया, तब भी मैंने जारी रखा। फिर उसने मुझे वहां से हटा दिया और मेरी तरफ आकर मुझसे लिपट गयी.

एक मिनट के आराम के बाद भाभी उठीं और मुझे नीचे बिठाकर मेरे ऊपर चढ़ गईं और मुझे चूमने लगीं. पहले मेरे होठों पर… फिर मेरी गर्दन पर, फिर मेरे पेट के निचले हिस्से पर।

उसने ज्यादा देर नहीं की और मेरे लोअर के साथ मेरा कच्छा भी उतार दिया. यकीन मानिए दोस्तो बेशक से तुमने कितनी बार ही अपने लंड को हाथ में लेकर मसला हो।

लेकिन जब कोई महिला इसे पकड़ती है तो इसका एहसास कुछ और ही होता है। थोड़ी देर तक हाथ से करने के बाद भाभी ने लंड को मुँह में लेकर चूसना शुरू कर दिया. (भाभी ने चुदाई करवाई)

पहले धीरे-धीरे… फिर तेज़! मैं आपको बता नहीं सकता कि जब भी वह मेरा सुपारा चाटती थी तो मुझे क्या महसूस होता था। ये मेरा पहली बार था इसलिए मैं भाभी की गर्मी बर्दाश्त नहीं कर सका और 2 मिनट में ही झड़ गया

और भाभी सारा रस पी गईं. मुझे ये बहुत पसंद आया, लेकिन मुझे ग्लानि भी हुई कि मेरे साथ इतनी जल्दी ये सब कैसे हो गया. फिर मैं उठने लगा तो आशिका भाभी ने बिना बोले इशारे से पूछा – कहां जा रहे हो?

तो मैंने भी इशारा किया – इसे साफ़ करो! तो उसने मना कर दिया और खुद ही कपड़े से मेरा लंड साफ कर दिया. और फिर भाभी मेरे साथ लेटकर मेरे लंड को अपने हाथों से हिलाने लगीं और साथ में चूमती भी लगीं.

4-5 मिनट बाद भाभी ने लंड फिर से खड़ा कर दिया और तभी भाभी की आवाज आई – अब डाल दो. मैं नंगी भाभी के ऊपर गया और अपना लंड भाभी की चूत में डालने की कोशिश करने लगा

लेकिन मुझे नहीं पता था कि कैसे डालूं. तो भाभी ने अपने हाथ से मेरे लंड को अपनी चूत के छेद पर सैट किया और मैंने धक्का दे दिया. और मेरा लगभग आधा लंड भाभी की चूत में चला गया. (भाभी ने चुदाई करवाई)

उसको थोड़ी परेशानी हुई क्योंकि मेरा सुपारा मोटा है. और उसने भी काफी समय से कुछ नहीं किया था. फिर मैंने धक्का लगाना शुरू किया और लंड खुद ही पूरा चूत के अंदर चला गया, मुझे पता ही नहीं चला.

मेरे लंड से भाभी की सिसकारी निकल रही थी. थोड़ी देर बाद वो मेरे ऊपर कूदने लगी. 10-15 मिनट की चुदाई के बाद हम दोनों फिर से झड़ गये.