सेक्सी मौसी को सेक्स के लिए पटाया


New Sex Stories in
Telugu    Hindi   Kannada   Malayalam   Tamil

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “सेक्सी मौसी को सेक्स के लिए पटाया – मौसी चूत चुदाई कहानी भाग-2”। यह कहानी जतिन की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

जब मौसी हमारे घर आई तो मुझे सेक्सी मौसी की चूत चोदने में मजा आया। उसके बदन को देखकर मैंने तय कर लिया था कि मैं उसे चोदूंगा. पढ़ें कि कैसे मैंने मौसी की चूत में अपना लंड डाला।

नमस्कार दोस्तों!
मैं जतिन आपको अपनी मौसी की जवानी का मजा लेने और चोदने की सेक्स कहानी से परिचित करा रहा था.

अब तक कहानी के पहले भाग: मौसी चूत चुदाई कहानी में आपने पढ़ा था कि शिखा मौसी मुझसे कामातुर हो गयी थी और मैं उनके ऊपर चढ़कर उनके बूब्स को चूस रहा था।

अब आगे सेक्सी मौसी चूत चुदाई कहानी:

“ओह जतिन, चूसो और चूसो अहा! मुझे बहुत मज़ा आ रहा है आहा उन्ह।”
“हाँ मौसी… आज मैं आपके बूब्स को पूरा पी जाऊँगा।”

फिर मैंने मौसी के चूचों को जोर से हिलाया और बुरी तरह से मुँह में दबा लिया- आउच… बहुत रसीले हैं मौसी… आह!

“स्स्स्स… इसे बाद में भी चूस लेना जतिन, पहले अपना हथियार तो अंदर डाल दो यार… बहुत खुजली हो रही है।” अब मैं अपने आप पर और अधिक नियंत्रण नहीं रख सकती।” “हाँ मौसी, बस थोड़ी देर और रुको।”

मैंने कुछ देर और मौसी के मम्मों को दबाया और निशाना दूसरी जगह लगाने का काम शुरू कर दिया.

बारी आ गई थी अपने लंड को मौसी की सबसे कीमती चीज़ से मिलाने की.

मैं झट से मौसी की टांगों के पास आया और उनकी टांगों को ऊपर उठाया, उनकी पैंटी उतार कर दूर फेंक दी।
जैसे ही मौसी की पैंटी खुली, उनकी चूत की खुशबू मेरे को मदहोश करने लगी. (मौसी चूत चुदाई कहानी)

मैंने भी अपना पजामा खोला और अपना मोटा हथियार बाहर निकाल लिया.

मैंने मौसी की टांगें उठाईं और उनकी गर्म चूत में अपना लंड डालने लगा.
मुझे मौसी की चूत के आसपास घनी झांटे महसूस होने लगा.

“मौसी, तुम्हें अपने खेत से फसल काट लेनी चाहिए।”
“हां यार, इस बार मैं काटना भूल गयी. बहुत समय हो गया।”

मैंने मौसी की चूत के छेद पर अपना लंड रखा और उनकी टांगों को अपने कंधों पर रखा और एक जोरदार झटका मारा.

एक ही झटके में मेरा लंड मौसी की Tight Chut के छेद को फाड़ता हुआ पूरा अन्दर घुस गया.

मौसी मेरे लंड के एक ही झटके से घबरा गईं- आआईईई मम्मी मररर गइईईई… आआईईईई ओह जतिन एई मेरी फट गई!
मेरा मोटा लम्बा हथियार मौसी को बहुत भारी लग रहा था।

मैंने मौसी की टांगें पकड़ लीं और अपना लंड उनकी चूत में डालने लगा.
अहा… मौसी की चूत में घुस कर मेरे लंड को बहुत राहत मिल रही थी.
मुझे अपनी मौसी को चोदने में बहुत मजा आ रहा था.

मौसी की दर्द भरी कराहें कमरे में गूंजने लगीं- आई आह मैं आई ओह धीरे… मैं मर गई!
मैंने कहा- चूत में लंड डाल कर धीरे धीरे कौन चोदता है?

खैर… मौसी को सब कुछ याद होने के बावजूद वो मुझसे धीरे-धीरे चोदने के लिए कह रही थीं।

मैं तो बस मौसी को छेड़ रहा था.
मेरे लंड के हर झटके के साथ मौसी के स्तन जोर-जोर से हिल रहे थे।

“आईईई अह्ह्ह अह्ह्ह स्स्स्स उन्ह अह्ह्ह अह्ह्ह स्स्स्स्स ओह जतिन, बहुत दर्द हो रहा है!”
“थोड़ा दर्द हो रहा है मेरी जान।”

कुछ देर बाद मौसी अकड़ने लगीं और कुछ ही पलों में मौसी की चूत में भूचाल आ गया.
उसकी चूत से गर्म लावा फूट पड़ा. (मौसी चूत चुदाई कहानी)

कूलर की ठंडी हवा में मौसी पसीने से भीग गई थी।

मेरा लंड मौसी के गर्म लावे में भीग गया और लंड और भी ज्यादा गुस्से में आ गया, अब मौसी की चूत के फटे ज्वालामुखी में हंगामा मचाने लगा.

थोड़ी देर बाद मैंने मौसी को कस कर अपनी बांहों में पकड़ लिया और उनके पसीने से लथपथ शरीर से चिपक कर उनकी गीली चूत में अपना लंड पेलने लगा- ओह मौसी, तुम बहुत कमाल हो… आह्ह बहुत मजा आ रहा है.

“आईईईई स्स्स्स आह उन्ह… बस मुझे ऐसे ही चोदो… आह बहुत आराम महसूस हो रहा है।”

मैं अपनी गांड हिला कर मौसी की चूत का भोसड़ा बनाने में लगा हुआ था.
मेरा मोटा लम्बा हथियार मौसी की चूत को फाड़ रहा था।

मौसी लगातार भावनाओं में बह रही थीं।
वह अब फिर से उत्तेजित हो गई थी और अपनी Moti Gand उठा-उठा कर मेरे लंड को अपनी चूत में घुसा रही थी- ओह मेरे राजा… उन्ह ओह ओह बहुत जोर से पेलो अपनी शिखा रानी को जोर से…

मैं शिखा मौसी की चूत का भोसड़ा बनाने की पूरी कोशिश कर रहा था।

“ओह जतिन मैं तो मर गयी।” फिर मौसी ने ज़ोर से अपने नाखून मेरी पीठ में गड़ा दिए और कुछ ही पलों में मौसी फिर से पानी पानी हो गईं. उसकी चूत फिर से सफ़ेद गाढ़े पानी से भर गयी.

मैं मौसी की चूत में जोर जोर से धक्के मार रहा था.
आज मेरा लंड कंट्रोल करने की कोशिश करने पर भी नहीं रुक रहा था.
मैं Shikha मौसी को छेड़ रहा था.

मेरे लंड ने मौसी की हालत ख़राब कर दी थी.
मैं लंड की प्यास में उसे जोर जोर से चोद रहा था.

“ओह मेरी जान… बस करो… कोई दवाई ली है क्या?” आह, क्या मजा आ रहा है तुम्हें… बस मुझे सांस तो लेने दो। आह, मेरी चूत तो नगाड़े की तरह बज रही है।”

“आज मुझे मत रोको मेरी मौसी… आज तुम्हारी चूत की खैर नहीं है।” लंड के लगातार प्रहारों से मौसी की चूत फिर से लंड का सामना करने लगी. (मौसी चूत चुदाई कहानी)

यह प्रकृति का चमत्कार है कि स्त्री का स्खलन एक बार समाप्त नहीं होता, वह दोबारा लंड का सामना करना शुरू कर देती है।

“हाँ मेरे राजा, अच्छे से खेलो अपनी रानी के साथ।” मौसी की चूत की आग और भड़का रही थी.
जोरदार धक्को से उसकी चूत की आग और भी बढ़ती जा रही थी.

फिर काफी देर तक जोरदार धक्को के बाद मेरा लंड हिचकोले खाने लगा.
मैं समझ गया कि अब मेरा वीर्य निकलने वाला है.

फिर मैंने अपना लंड मौसी की चूत में रख दिया और उसे कस कर भींच लिया.

अगले कुछ ही पलों में मौसी की चूत मेरे लंड के माल से लबालब भर गयी.

“ओह जतिन।” मौसी ने मुझे अपने सीने से लगा लिया.

सेक्सी मौसी की Chut Chudai के बाद हम दोनों कुछ देर तक ऐसे ही चिपके रहे.

You can install this Beep Stories Web App to get easy access

पहले दौर की चुदाई के बाद मौसी बहुत थक गई थीं।
उसने अपने कपड़े ठीक किये और वापस अपने कमरे में जाने लगी.

मैंने उसका हाथ पकड़ कर रोका और अपनी ओर खींच लिया.
मौसी मना करने लगीं और बच्चे से के पास जाने को कहने लगीं।

मैंने उसे कसम दी और वह एक बार अपने बच्चों को देखकर वापस आ गई।’
उसके वापस आने का मतलब था कि वो मेरे लंड की ताकत से खुश थी और दोबारा सेक्स का मजा लेना चाहती थी.

इधर मेरे लंड में बहुत आग बाकी थी.
जैसे ही वो वापस आई तो मैंने फिर से मौसी के गुलाबी होंठों पर लगी लिपस्टिक को चूसना शुरू कर दिया.

कमरे में फिर से आउच पुच पुच आउच की आवाजें गूंजने लगीं.
माहौल फिर से गर्म होने लगा था. (मौसी चूत चुदाई कहानी)

मैं मौसी के होंठों को मसल रहा था और चूस रहा था।
अब मैं नीचे सरक गया और मौसी की चिकनी गर्दन पर गिर गया। मैं मौसी की गर्दन को जोरों से चूमने लगा.

चूमने से मौसी की चूत में फिर से खुजली होने लगी.
मौसी भी मुझे अपनी बांहों में पकड़ने लगीं.

इधर मेरा लंड फिर से लोहे की रॉड बनने लगा.
मैं मौसी के बूब्स की ओर लपका और दोनों को अपनी मुट्ठियों में भर कर जोर से भींच लिया।

“ओह मेरे राजा, आराम से करो. कहीं भाग नहीं रहे हैं. यहीं हैं।”
“हाँ मेरी प्यारी रानी, पर क्या करूँ… अब सब्र खो रहा है।”

मौसी बार-बार मुझसे उसके Big Boobs धीरे-धीरे दबाने के लिए कह रही थी लेकिन मैं अपनी पूरी ताकत से उसके स्तन दबा रहा था।

“आज मेरे स्तन फाड़ कर ही मानोगे!”
“हाँ शिखा जान!”

मैंने मौसी के चूचों को मसल डाला और बुरी तरह से निचोड़ दिया.

बूब्स को पिलपिला करने के बाद मैंने मौसी का ब्लाउज और ब्रा खोल कर उनके शरीर से अलग कर दिया.

मेरी मौसी ऊपर से पूरी नंगी थी.
मैं मौसी के रसीले आमों पर टूट पड़ा और उनके एक आम को मुँह में दबा लिया और बोबे का स्वाद लेने लगा।

मौसी मेरे बालों को सहलाते हुए बारी-बारी से मुझे अपने दोनों बूब्स का रस पिला रही थीं।
मैं उसके मम्मे भी मसल रहा था और चूस भी रहा था।

“ओह जतिन, आज जितना चूसना है चूस लो।”

मैंने काफी देर तक मौसी के चूचों को हिलाया.
उसके बाद मैंने उसके पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया.

मौसी मेरी मंशा समझ गयी थी कि मैं उन्हें पूरी नंगी करना चाहता हूँ।
तभी मौसी ने अपनी गांड ऊपर उठाई- मैं हूँ… ले ले!

मैंने जल्दी से मौसी की साड़ी, पेटीकोट एक साथ उतार फेंके।
मैंने मौसी को पूरी नंगी कर दिया था.

मैं उसकी मोटी चिकनी जांघों को चूमने लगा. अहा… मौसी की जांघें बहुत मलाईदार थीं!
मैं पागल होने लगा. (मौसी चूत चुदाई कहानी)

मैंने मौसी की चिकनी जाँघों को कुछ देर तक चूमा और उनकी गांड के नीचे एक तकिया रख दिया।

फिर मैंने उसकी टांगें फैलाईं और उसकी चूत पर टूट पड़ा.
उसकी मादक चूत की कामुक खुशबू मुझे मदहोश कर रही थी.
मैं मदहोश हो गया और मौसी की चूत चाटने लगा.

मौसी की चूत की भीनी भीनी खुशबू मुझे पागल करने लगी.
मुझे उसकी गर्म चूत चाटने में बहुत मजा आ रहा था.

मौसी भी धीरे-धीरे अपनी गांड हिला रही थी और कामुक सिसकारियाँ ले रही थी- ईस्स्स ओह आह्ह ईस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स… उन्ह ओह मेरे राजा आहह मज़ा आ रहा है… और दबाओ और चाटो मेरी चूत को…स्स्स्स्स्स!

मैं मौसी की चूत पर बुरी तरह से अपना मुँह रगड़ रहा था।
गुलाबी चूत चाटने में मुझे बहुत मजा आ रहा था.

मौसी वासना के मारे बिस्तर की चादर को अपनी मुट्ठियों में भींच रही थी।

जल्द ही मेरी जीभ चूत की गुलाबी भगनासा को कुरेदने लगी.

“उन्ह्ह्ह जतिन… वहाँ मत चाटो… मैं झड़ जाऊँगी… आह्ह।”
मौसी मुझे अपनी चूत से हटाने की कोशिश करने लगीं लेकिन मैं उनकी चूत पर अटका हुआ था।

मैं जोर जोर से चूत चाट रहा था.
मौसी अपने पैर इधर उधर पटक रही थी.

फिर उसने मेरा सिर पकड़ लिया और जोर से अपनी चूत पर दबा दिया.
कुछ ही देर में मौसी का पानी निकल गया. (मौसी चूत चुदाई कहानी)

मैं मौसी की चूत से निकल रहे नमकीन और गर्म पानी को चाटने लगा.

कुछ ही देर में मैंने चूत को चाट कर साफ कर दिया.

अब मेरा लंड फिर से मौसी की चूत में जाने के लिए तरस रहा था.
मैंने झट से उसकी टाँगें अपने दोनों कंधों पर रखीं और तुरंत अपना लंड उसकी चूत के छेद पर रगड़ने लगा।

“आह… तुम कितने शैतान हो, तुमने मेरी छोटी सी बात भी नहीं सुनी। पानी निकाल कर ही माना।”
“मौसी, चूत का पानी निकालने के लिए शैतान बनना पड़ता है।”

फिर मैंने एक ज़ोर का झटका मारा और मेरा लंड मौसी की चूत में घप्प से घुस गया. लंड डालने के बाद मैं फिर से मौसी को जोर जोर से पेलने लगा.

मेरे लंड के प्रहार से मौसी फिर से हवा में उड़ने लगीं- मैं हूँ… आअहह आअहह मैंने तुरंत अन्दर घुसा दिया… आहह हरामी, अपनी मौसी की चूत पर रहम कर… आज ही इसका भोसड़ा बना देगा क्या?

मैंने कहा- जब दो लौड़े चूत से निकाल दिए तो चूत ढीली नहीं हुई तो मेरा लंड कैसे चूत ढीली हो जाएगी?

मौसी हंस कर बोलीं- मेरी जान, तुम दिमाग से से नहीं लंड से ज्यादा ताकतवर हो. मेरे बच्चों ने अपना मुँह मेरी चूत से बाहर नहीं निकाला है… मेरे दोनों बच्चे ऑपरेशन से पैदा हुए हैं। अब मुझे मौसी की टाइट चूत का राज पता चल गया था.

मेरे लंड के हर झटके के साथ मौसी की चूत बुरी तरह जख्मी हो रही थी. मेरा लंड मौसी की चूत की जड़ तक मार कर रहा था.

“राजा! बहुत मजा आ रहा है… ओह आह्ह, बहुत दिनों के बाद मुझे इतना मजा आ रहा है… आह्ह आह्ह, और जोर से चोदो मुझे।” “हाँ मेरी रानी… आज तो मैं पूरी रात तुम्हारे साथ खेलूँगा।” (मौसी चूत चुदाई कहानी)

मौसी धीरे धीरे मेरा लंड अपनी चूत में ले रही थी.
मैं भी तेजी से अपना लंड मौसी की चूत में डाल रहा था. दोनों तरफ बराबर आग लगी थी.

जोरदार धक्को से मौसी की चूत की आग और भी तेज हो गयी थी.
तभी मौसी का पानी निकल गया.

दोस्तो, आपको मौसी चूत चुदाई कहानी में मजा आया होगा. कमेंट करके बताये.

अभी सेक्सी मौसी की चूत की चुदाई चल रही थी.
उसके बाद उसकी गांड चुदाई की कहानी भी बाकी है. वह मैं अगले भाग में लिखूंगा.

कहानी का अगला भाग: मौसी को सेक्स के लिए पटाया