लंड की प्यासी चाची ने बनाया चुत का गुलाम – Chachi Ki Chudai

Chachi Ki Chudai :हेलो दोस्तों, मैं आपकी पालवी , आज फिर आपको एक लड़के की सेक्स स्टोरी सुनाने आई हूँ जिसका नाम “चाची को चोदा पढ़ाई की मदद से” है आगे की कहने उस लड़के की ज़ुबानी।

मेरा नाम संजीव है और मैं रामपुर से हूँ। मेरी उम्र 22 साल है। मेरे चाचा दिल्ली में रहते हैं। उनका परिवार बहुत मॉडर्न है। मेरे चाचा के घर पर मेरे दादा-दादी, चाचा और चाची और उनके 1 बच्चा हैं जो बहुत छोटा हैं।

चाची जी की बात करें तो वह बहुत ही संस्कारी युवती हैं। उसके बूब्स मीडियम साइज के हैं। वह दिखने में भी काफी गोरी है। मतलब इन्हें देखकर किसी भी मर्द का लंड खड़ा हो सकता है।

मेरी चाची जी से बहुत अच्छी दोस्ती है और मैं उनसे हर बात शेयर करता हूं लेकिन मैंने उनसे सेक्स वगैरह की कभी बात नहीं की। मैंने कभी चाची जी को गलत नजर से नहीं देखा था।अब मैं असल कहानी पर आता हूँ।

लगा चुत का मेला दो आंटी को पेला – Aunty ki Chudai

यह कहानी तब की है जब मैं 21 साल का था और अपने कॉलेज के पहले साल में था।जब मैं वहां पढ़ने गया तो मेरा बहुत अच्छे से स्वागत किया गया और मेरे लिए विशेष भोजन तैयार किया गया। खाना खाने के बाद हम सोने के लिए तैयार हो गए।

फ्लैट में दो ही कमरे थे। एक में दादा-दादी और एक में चाचा, चाची व उनके बच्चा सोते हैं।मैं ड्राइंग रूम में टीवी देखने लगा और वहीं सोफे पर सो गया।कुछ देर बाद मेरी आंख खुली और जब मैं बाथरूम गया तो मुझे कुछ आवाजें सुनाई दीं।

मैंने चाची जी के कमरे के पास जाकर देखा तो देखता ही रह गया।चाचा जी बिल्कुल नंगे पड़े थे। लेकिन उनका लंड बहुत छोटा था। चाची कपड़े उतार रही थीं। चाची जी सिर्फ ब्रा पैंटी में थीं|

उनकी सफेद मांसल जांघों को देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया  मैं अपने लंड को रगड़ने लगा।उनके कमरे में जीरो वॉट का बल्ब जल रहा था, जिसकी रोशनी में बहुत कम दिखाई दे रहा था और मैं गेट की सांस (दरार) से यह सब देख रहा था।

चाची जी लेट गए और चाचा मिशनरी पोजीशन में आ गए और 7-8 जोर से ही चोदने लगे, चाचा जी का निकल गया और चुपचाप लेट गए।चाचा-चाची की चुदाई देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया था।

मेरे अंदर भी चुदाई करने की आग जाग चुकी थी। मेरा लंड पूरी तरह से खड़ा हो गया था। मैं वहीं खड़े अपने लंड को हिलाने लगा।मैं अब भी वहीं देख रहा था और मुझे एहसास हुआ कि चाची जी के चेहरे पर हल्की सी मायूसी झलक रही थी।

चाचा द्वारा किए गए सेक्स से वह खुश नहीं हो रही थी।(चाची को चोदा)मुझे भी लगा कि मेरे चाचा बहुत जल्दी झाड़ गए। इस वजह से चाची की प्यास अधूरी रह गई होगी।

चाचा जी कुछ देर लेटे रहे, फिर उठकर चादर को लेकर सो गए। लेकिन चाची की नंगी चूत अभी भी मुझे दिख रही थी। मैं वहां से हिलना नहीं चाहता था।मैंने पहली बार चाची की नंगी चूत देखी थी |

उन्हें बार-बार देखकर मैं अपने लंड को मसल कर अपने मजे लेने में लगा हुआ था।उसके बाद चाची जी अपने हाथ से उनकी चूत में उंगली करने लगीं। देखते ही देखते चाचीजी के मुंह से सिसकियां निकलने लगीं।

इधर मैं चाची जी की चूत को देख कर अपना लंड हिला रहा था और उधर चाची जी उनकी चूत में उंगली करके उनकी चूत को शांत करने की कोशिश कर रही थीं।वह फिर से जोर-जोर से ऊंगली करने लगी |

उसके मुंह से जोर-जोर से सिसकियां निकलने लगीं।इसके बाद मैं वहां से आ गया। मैं चुपचाप जाकर सोफे पर लेट गया। लेकिन लेटे-लेटे भी मुझे नींद नहीं आ रही थी। उस रात चाची के प्रति मेरा नजरिया बदल गया।

मैं काफी देर तक चाची की चूत के बारे में सोचते हुए मुठ मारता रहा। जब तक मेरे लंड से वीर्य नहीं निकला तब तक मुझे चैन नहीं मिला। अपना वीर्य निकालने के बाद मैं शांत हो गया और सो गया।

अगली सुबह जब मैं उठा तो चाची मुझे चाय के लिए जगा रही थीं। मैंने उसे आँखें मलते हुए देखा तो चाय का प्याला नीचे रख रही थी। मुझे उसके निप्पल दिखे।

जब मैंने उसके निप्पलों की एक झलक देखी तो मेरा लंड खड़ा लगा। उसके चूचो लाइन को देखकर मेरा लंड अंदर से खिंचने लगा।(चाची को चोदा)|

मुंबई की रंडी की कुंवारी बेटी की चुदाई – Chudai Ki Kahani

मैं उन्हें घूर रहा था और चाची ने मुझे ऐसा करते हुए देख लिया। चाची ने मुझसे पूछा,ऐसा क्यों देख रहे हो?मैंने शर्म से अपनी आँखें नीची कर लीं।फिर चाची ने कहा,चाय पियो, ठंडी हो रही है।

उस दिन चाची की चूची दबाने का मन कर रहा था लेकिन अब हिम्मत नहीं हो रही थी। चाची वापस चली गईं।उसके बाद मैं कुछ दिनों के लिए अपने घर चला गया। वहां जाकर भी मैं चाची के बारे में ही सोचता रहा।

रात को उसकी चुस्कियों ने मुझे सोने नहीं दिया। मैं हर दिन उसके बारे में सोचते हुए अपनी मुठी मर लेता था।कुछ दिन बीतने के बाद दादी ने मेरी माँ को फोन किया और मेरे आने के बारे में पूछा क्योंकि चाचा कुछ दिनों के लिए बाहर जा रहे थे |

मेरी दादी ने माँ से कहा कि मुझे यहाँ चाचा के घर जल्दी भेज दो क्योंकि घर की देखभाल करने वाला कोई नहीं था । माँ ने मेरे कपड़े बाँधे और मैं दादी के यहाँ वापस आने के लिए तैयार हो गया।

मैं मन ही मन खुश हो रहा था क्योंकि अब मेरा अपनी चाची को चोदने का मन कर रहा था और मैं सोच रहा था कि अब ये मौका भी मेरे हाथ में है क्योंकि चाचा के रहते मैं चाची से इस तरह बात नहीं कर सकता।

अब जब मेरे चाचा बाहर जा रहे हैं तो मेरे लिए भी चाची की चूत को चोदने का रास्ता आसान हो जाएगा। मैं किसी न किसी बहाने चाची से उसके मन की इच्छा जान लूँगा।

दादी के यहां आने पर चाचा तैयार हो गए और मैं उन्हें ट्रेन में बिठाकर वापस आ गया। जब संध्या हुई खाना आदि खाकर सोने की तैयारी करने लगे। चाची जी ने कहा कि संजीव तुम हमारे साथ सो जाओ, आज चाचा भी नहीं हैं।

मैं बस अपनी चाची से वही बात सुनना चाहता था। मैं जल्दी से तैयार होगया उनके साथ सोने के लिए । हम चाची जी के साथ सोने लगे।एक तरफ चाची सो रही थी, एक तरफ मैं और बीच में दोनों बच्चा सो रहे थे।

अब मैं चाची जी के सोने का इंतजार कर रहा था।रात के करीब 12:00 बजे जब मुझे यकीन हो गया कि सब सो गए हैं तो मैं उठा और चाची जी के पास लेट गया और उनकी जाँघ पर हाथ रखकर उनकी जाँघों को छूने लगा।

जैसे ही मैंने अपने लंड को छुआ वो फटने जैसा था। मैं धीरे-धीरे अपने हाथों को जांघों पर घुमाने लगा। मैं उसकी मैक्सी पर हाथ फेरने की कोशिश कर रहा था।

मैंने धीरे से अपना हाथ उसकी चूत पर रखा और उसे मसलने लगा। चाची ने शायद पैंटी नहीं पहनी थी। मैं अपने हाथ पर उसकी चूत का स्पर्श महसूस कर सकता था। यह समझते ही मैं लगभग पागल हो गया।

मैंने धीरे-धीरे मैक्सी को ऊपर उठाना शुरू किया और मैक्सी को कमर तक ऊपर किया। अब मैं भूल ही गया था कि अगर वह जाग गई तो कितना बड़ा कांड होगा। मैं हवस के चक्कर में पागल हो गया था।

मैंने अपना लंड निकाला और उसकी जाँघों पर घुमाने लगा।(चाची को चोदा)

फिर हल्की सी हरकत हुई और चाची मेरी तरफ पीठ करके लेट गईं। एक बार तो मैं डर गया।।। लेकिन चाची शायद जागी नहीं थीं। तो मैंने सोचा कि एक बार फिर से कोशिश करूं।

मैं कुछ देर रुका और फिर अपना लंड उसकी गांड पर रगड़ने लगा। उसने शायद मेरा मोटा और सख्त लंड अपनी गांड पर महसूस किया, तो वह तुरंत उठ गई।

चुदाई की हवश ने भाभी को छपरी से चुदवाया part 2 – chudai ki kahani

मैं भी जल्दी से लेट गया। उसके बाद, मैंने अपनी आँखें बंद कर लीं। मुझे डर लग रहा था। पता नहीं चाची ने क्या देखा और क्या नहीं।लेकिन जब मैंने फिर से अपनी आँखें खोलीं, तो उसने पहले ही अपनी मैक्सी को अंधेरे में नीचे कर दिया था |

वापस लेटी थी। लेकिन मैं भी रुक नहीं पा रहा था। मैं सोच रहा था कि शायद ये मौका दोबारा न आए।कुछ देर बाद मैंने अपने हाथ उसके स्तनों पर रखे और धीरे-धीरे उन्हें दबाने लगा।

मुझसे रहा नहीं गया तो मैंने मैक्सी को ऊपर उठा लिया और जल्दी से लंड निकाल कर उसकी चूत के छेद पर रख दिया।तभी चाची उठी और मुझे देखा तो एकदम चौंक गईं और धीमी आवाज में गुस्से से चिल्लाईं|

क्या कर रहे हो संजीव ? क्या तुम नहीं समझते? मैं तुम्हारी चाची हूं यह सब तुम जो कर रहे हो, गलत है।चाची का गुस्सा देखकर मेरी गांड फट गई और मैंने उनसे सॉरी कहा और उठकर कमरे से बाहर चला गया और सोफे पर लेट गया |

वहीं पड़ा सो गया। मुझे डर था कि कहीं वह शिकायत न कर दे।फिर सुबह चाय लाकर मुझे जगाया। मैंने उसकी तरफ देखा भी नहीं। मैं आँखे नीची करके चाय पीता रहा और वो मेरे सामने टेबल साफ़ कर रही थी तभी चूचो के दर्शन होने लगे।

न जाने क्यों अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था। मैं जब भी उसे देखता तो खुद को रोक पाना मुश्किल हो जाता था। उस वक्त भी उसके निप्पलों को देखकर मेरा लंड फटने ही वाला था। मैं चाय बीच में रखकर बाथरूम की तरफ भागा।

मुझे ऐसी अधूरी चाय छोड़ते देख चाची ने पूछा कहां जा रहे हो। मैं बाथरूम में घुसा और अंदर से चाची को आवाज लगाई कि कुछ नहीं हुआ है, मैं अभी वापस आ रहा हूं।

अंदर जाने के बाद मैं बाथरूम का गेट लॉक करना भूल गया और लंड की मुठ मारने लगा। मेरी आंखें बंद थीं और मैं अपना लंड तेजी से हिला रहा था। मुझे नहीं पता कि मेरी चाची ने कब आकर मुझे देखा।

जब मैंने चाची के आने की आवाज सुनी तो अभी मेरी आंखें खुली ही थी लेकिन उस समय मेरे हाथ में मेरा लंड था और मेरे लंड से वीर्य निकल रहा था। चाची ने मुझे इस हालत में देखा।

उसने हैरानी से मेरे लंड को देखा और फिर मेरे चेहरे को। फिर वह चली गई।मुझे लगा कि मेरी किस्मत ही खराब है। मेरा लंड देखकर भी चाची ने कोई रिएक्शन नहीं दिया। अगर आज मेरी चाची गर्म हो जाती|

तो आज मैं अपनी चाची की चूत को बाथरूम में ही चोद लेता।चाची ने गेट बंद किया और वापस किचन में चली गईं और मैं वापस आकर सोफे पर बैठ गया। तब हम ज्यादा बात नहीं करते थे।

शाम को खाना खाते वक्त सुबह की बात का जिक्र करते हुए चाची ने कहा,सॉरी संजीव सुबह के लिए। मुझे ऐसे नहीं आना चाहिए था।मैंने भी चाची से कहा,कोई बात नहीं चाची। मैं खुद कल रात के लिए आपसे माफ़ी माँगने वाला था।

लेकिन मुझमें यह कहने की हिम्मत नहीं थी।(चाची को चोदा)लेकिन फिर चाची ने जो कहा।।। मुझे अपने कानों पर यकीन नहीं हुआ।चाची बोली,कल की बात कल ही खत्म हो गई। अगर आपको लगता है कि आप आज भी मेरे साथ सो सकते हैं।

इतना सुनते ही मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया। मैंने जल्दी से खाना खाया और अंदर जाकर लेट गया। मैं सिर्फ सोने का अभिनय कर रहा था। मैं वास्तव में चाची के आने का इंतजार कर रहा था।

चाची की चूत के बारे में सोचते हुए मेरा लंड पहले से ही खड़ा हो गया था। मैंने अपने लंड को अपनी अंडरवियर में दबा लिया ताकि चाची को मेरा खड़ा हुआ लंड दिखाई न दे।

तभी चाची कमरे में आईं और लाइट ऑन कर दी। तब तक बच्चा सो चुके थे और उन्हें लगा कि शायद मैं भी सो गया हूं। मैंने धीरे से आँखे खोली तो देखा की मेरी चाची अपने कपड़े उतार रही थी।

उसने अपने कपड़े उतारे और ब्रा और पैंटी में ही चादर के अंदर आ गई। उसने लाइट बंद कर दी थी और कमरे में अंधेरा था।मैं अपने लंड को हाथ में लेकर हिलाने लगा। मैं जानता था कि चाची को अँधेरे में कुछ भी दिखाई नहीं देगा।

मुझसे तो रहा नहीं जा रहा था। कल रात की तरह बच्चा चाची और मेरे बीच सो रहे थे।मैं नहीं कर सका एक या दो घंटे के बाद भी और मैं कल रात की तरह उठा और अपनी चाची के पास लेट गया।

मैंने धीरे से चाची के बदन से चादर हटाई और उनके बदन पर हाथ फेरने लगा।चाची आज कोई हरकत नहीं कर रही थीं। मेरा लंड का बुरा हाल होने लगा। मैं ब्रा के ऊपर से चाची के बड़े बूब्स दबाने लगा। चाची ने तब भी कुछ नहीं किया।

अब मेरी हिम्मत भी बढ़ गई थी। मैंने चाची की पैंटी को मसला और उनकी चूत को छूते ही मैं बेकाबू हो गयाजब मैंने चाची की पैंटी नीचे करने की कोशिश की तो चाची ने हल्के से अपनी बड़ी गांड उठाई |

मैं समझ गया कि चाची की तरफ से भी लाइन क्लियर है।बस फिर क्या था।।। मैं चाची पर टूट पड़ा, उनके निप्पलों को चूसने और काटने लगा और चाची मेरे बालों में हाथ फेरने लगीं।

उसके बड़े बदन को छूते ही मैं बेकाबू हो गया और मैंने झट से अपना लंड निकाल कर चाची की चूत में डाल दिया।लंड को चूत में डालते हुए मैंने एक झटका मारा और मेरा लंड चाची की चूत में घुस गया।

चाची बिल्कुल नहीं हिली। मैंने अपना लंड चाची की चूत में पूरा निकाल दिया।फिर मैंने धीरे धीरे उसकी चूत को धक्का देना शुरू किया। मैं भी कोई आवाज नहीं कर रहा था क्योंकि बच्चा भी उस समय सो रहे थे।(चाची को चोदा)

मैंने पांच मिनट तक चाची की चुदाई की और फिर मेरा वीर्य निकल गया। फिर चाची ने अपना मुँह मेरे कान के पास लाकर मुझे वापस जाने को कहा।लेकिन मैं अभी भी सो नहीं सका। इतने दिनों बाद मुझे चाची की चूत मिली है।

सुबह करीब तीन बजे मैंने फिर से चाची को जगाया और हम दोनों चुपके से उठे और बाथरूम में चले गए।वहां जाते ही हमने धीरे से दरवाजा बंद किया और एक दूसरे को बेतहाशा किस करने लगे।

मैंने चाची के पूरे बदन को चूसा और चाटा और फिर उनकी चूत में उंगली दे दी।चाची ने मुझे अपनी बाँहों में भर लिया और फिर मैंने उन्हें दीवार से धक्का दे दिया और अपना लंड उनकी चूत में घुसेड़ दिया।

चाची ने मुझे लेटा के लंड की सवारी की – Chachi Ki Chudai

मैं दीवार से लगाकर चाची को चोदने लगा। मैंने दस मिनट तक चाची की चुदाई की और फिर मैं दूसरी बार चाची की चूत में झाड़ा। फिर हम दोनों चुपचाप आकर लेट गए।

सुबह चाची चाय देने आई तो मुस्कुरा रही थी। जब वो मेरे करीब आई तो मैंने अपनी नजरें बाहर रखते हुए चाची के निप्पल को छुआ और चाची ने मेरा हाथ झटक दिया।

चाची को शायद डर था कि घर में कोई देख लेगा। उसके बाद मैंने अपनी चाची की चूत की कई बार चुदाई की।अब चाची भी खुश थी। जब भी मौका मिलता हम चुदाई करते थे।

फिर जब मेरे चाचा वापस आए तो हमें मौके मिलना बंद हो गए। लेकिन हम दोनों इस बात का इंतजार करते थे कि हमें कब चोदने का मौका मिलेगा।चाची मेरे लंड से खुश थी और मैं भी चाची को चोदा कर मजे लेता था।

यदि आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैंअगर कहानी पसंद आई हो तो अपने दोस्तो के साथ जरूर शेयर करें। हमारी वेबसाइट fungirl.in आपके लिए ऐसी ही मजेदार चुदाई की कहानियां लाती रहेगी।

New Sex Stories