हवसी माँ को चोद दिया – Maa Ki Chudai

मम्मी की दिल की धड़कन बढ रही थी सोच सोचकर ही तभी मुश्ताक ने दरवाजा खोला मुश्ताक की लंबाई उसके कमरो के गेट से भी बडी थी, 6.2 हाइट ओर फुल मसल लंबा चोडा हट्टा कट्टा 35 साल की उम्र का कुंवारा सांड कह सकते है। उसे मम्मी को देखकर मुश्ताक का मुह खुला ही रह गया। दोस्तों ये है मेरी माँ सेक्स स्टोरी का अदला भाग और इसे पूरा पढ़ना।

मम्मी की नजरे मेरे ऊपर ही थी वो मेरी हालात देखकर मुस्करा रही थी रात को दूध का गिलास देते वक्त भी मम्मी ने मुझे अपने बडे बडे दूध दिखा दिये थे। सुबह उठकर मम्मी ने हमे उठाया ओर हम वही रोज का काम शुरू स्कूल से लोटा तो आज मम्मी ने टाइट पजामा ओर टीशर्ट पहन रखी थी।

मम्मी की बडी गांड ओर चुचियो को मे भी चोर नजर से आज ताडने लगा खैर मम्मी तो यही चाहती थी। वो चाय बनाकर लाई तो मेरी नजर आज उनकी चुचियो पर अड गयी थी ओर वो ये देखकर खुश हो रही ओर हंसकर मुझे रिझा रही थी। शाम को खेलने गया तो वहा मैने आज बहुत सी ओरतो को जी भरकर ताडा ओर मुकेश के साथ मे सिगरेट पीना भी सिख गया था।

खैर, आज मै सिगरेट घर लेकर आया था ओर रात को खाना खाकर छत पर सिगरेट पीने गया। तो नीचे मम्मी काम कर रही थी मैने मोका देखकर सिगरेट सुलगाई तो अचानक मम्मी दबे पाव छत पर आ गयी ओर मेरे मुह मे सिगरेट थी ओर सामने मम्मी मै ये देखकर डर गया ओर मेरे मुह से सिगरेट नीचे गिर गयी।

तो मम्मी बोली – बेटा जवान हो गया ओर मुझे पता ही नही चला?!

तभी मम्मी ने पास आकर सिगरेट उठाई ओर कश लगाकर मुझे कहा – लो!

मै डर चुका था तो मैने कहा – सोरी मम्मी… मै नही पिऊगा आप पापा को मत कहना!

ये सुनकर मम्मी बोली – नही पी तो कह दूगी

ये सुनकर मेने सिगरेट लेकर कस लगाने शुरू कीये।

तो मम्मी बोली – सारी अकेला ही पियेगा क्या मुझे भी दे तो

मैने मम्मी को सिगरेट दे दी मम्मी ने दो कश लगाकर सिगरेट फेक दी ओर कहा बाहर नही पिना रात को मेरे साथ पी लेना। अब से ये सुनकर मै खुश हो गया ओर फिर दस मिनट बाद नीचे आकर कमरे मे चला गया। रात को मम्मी दूध लेकर आई तो उन्होने खुले टाप मे अपनी चुचियो का दीदार फिर से करवा दिया ओर रात मे मै मम्मी के हसीन सपनो मे खो गया।

सुबह मुझे लगा मेरे लंड को कोई छु रहा है, तो मैने देखा मम्मी मेरे खडे लंड पर हाथ घुमा रही थी। मेने आखे बंद कर ली ओर सोने का नाटक करता रहा। तभी मम्मी ने मुझे आवाज लगाकर उठाया तो कच्छे मे तने लंड को देखकर वो हंसकर बाहर चली गयी। मम्मी अब भी रूटीन मे आमिर से अपनी चुत ओर गांड मरवाने जाती रही ओर इधर मम्मी को एक महीने से ज्यादा है गया था मुझे अपने जाल मे फसाने के लिए।

मगर वो खुलकर नही कुछ कर रही थी इधर एकदिन शोकत ने आमिर को कहा फोन करवाने को तो मम्मी ने घर आकर शोकत को फोन कीया।

तो शोकत ने कहा – बहन वो सबीना खून पी रही है कह रही थी चार रविवार हो गये वो आई नही इस रविवार को आ जाओ उसके पास।

तो मम्मी ने कहा – भाईजान उसे कहा वो इस रविवार को सुबह दस बजे सबीना के घर होगी।

फिर दोनो जनो ने काफी देर बाते करके फोन रख दिया मम्मी मुश्ताक से चुदाई के लिए तैयार ही थी। मगर आजकल उनका ध्यान मेरे पर था ओर मम्मी की सह के चलते मे थोडा खुला हो गया था अब मे शाम को मुकेश के साथ देर तक रहने लगा ओर रोजाना मम्मी के साथ सिगरेट पीने के बाद मे थोडा खुला हो गया। ओर मम्मी भी यही चाहती थी मुकेश ओर मे करीबी दोस्त थे तो हमारे बीच सारी बाते हो जाती थी शाम को एक,

आंटी को देखकर मुकेश ने कहा – क्या मस्त माल है

तो मेने कहा – ये तो शादीशुदा है

तो मुकेश बोला – भाई शादीशुदा महिलाए ही ज्यादा मजा देती है ओर खुलकर चुदाई करवाती है शादी के बाद ही इनकी गांड ओर चुचियो बढती है।

ये बात सुनकर मेने कहा – ये तो है मुकेश

ओर मुकेश से पूछा – तूने कितने भाभी पेली है ओर कोई माल पटाया है क्या है?!

तो मुकेश ने कहा – मेरी किस्मत ऐसी कहा है कोई पट जाए

तो मेने कहा – क्यो कोई है ध्यान मै?!

तो बोला – जाने दे तू बुरा मान जाएगा

तो मेने कहा – नही मानूगा बता दे

तो बोला – कसम से!

मैने कहा – हा!!

तो बोला – तेरी मम्मी बहुत पसंद है।

ये सुनकर मै चुप हो गया ओर वो भी कुछ देर हम दोनो खामोश रहे,

ओर मेने कहा – तुम ओर कोई देख लो

तो वो बोला – बुरा मान गया ना तू, मैने तो पहले ही कहा था, तेरे से तो!

मै बोला – यार हम दोस्त है कोई बात हो गयी तो गलत हो जाएगा

तो मुकेश बोला – एकबार पट जाने दे फिर देख कुछ गलत नही होगा

मैने कहा – ऐसे केसै होगा

तो वो बोला – अपनी गाडी पर ड्राइवर रख लो बस बाकी अपने आप हो जाएगा

मैने हा कह दी!

ओर मुकेश ने कहा – तेरी मम्मी बहुत सैक्सी है भाई मेरि मम्मी ऐसी होती तो कब का पेल देता!

ये सुनकर मुझे मम्मी का बदन दिखने लगा।

तभी मुकेश ने कहा – चल चलते है काफी देर हो गयी!

ओर सिगरेट लेकर घर चला गया रात को खाना खाकर मै ओर मम्मी छत पर चले गये मम्मी ने आज पारदर्शी नाइटी पहन रखी थी। जिससे उनकी चुचियो ओर काली पेटी साफ दिख रही थी मै सिगरेट पीते पीते मम्मी को घुरकर देख रहा था तो मम्मी भी ये देखकर खुश हो रही थी।

तभी मैने कहा – मम्मी मुकेश को अपने यहा ड्राइवर रख लो ना

तो मम्मी बोली – क्यो?

मैने कहा – वो बोल रहा था!

तो मम्मी समझ गयी शशी के चक्कर मे वो यहा ड्राइवर बनना चाहता है तभी मैने कहा – वो आपकी बहुत तारीफ करता है!

तो मम्मी ने कहा – क्या?

आप बहुत खुबसूरत हो मेरे सभी दोस्त कहते है ओर क्या है मैने कहा ओर तो कुछ नही कहते!

तो मम्मी बोली – मुकेश को ड्राइवर रख लेगे जल्दी मगर उसे बताना नही

अभी मम्मी मुकेश से चुदना तो चाहती थी मगर साथ मे मम्मी चाहती थी शशी की शादी करवाकर उसे रखे। तो

आज रात को मम्मी ने पापा को कहा – की शशी की शादी का कुछ सोचा?!

तो पापा ने कहा – अभी तो वो छोटी है!

तो मम्मी बोली – इस उम्र मे दो बच्चे थे मेरे ओर आपके कोई रिश्ता देखो पढाई तो एक साल की बची है, रिश्ता करते ओर शादी होते हुए ही लग जाएगा एक साल

तो पापा ने कहा – ठीक है!

अगले दिन मम्मी आमिर से चुदाई करवाकर आते वक्त ब्यूटीशियन के पास जाकर फुल बोडी वैक्स के साथ फेशियल मसाज वगैरह करवाकर आई ओर घर आकर काम करने लग गयी। शाम को मम्मी ने पापा के साथ चुदाई करके अगले दिन संडे को बाहर जाने की परमिशन ले ली।

ओर अगली सुबह रविवार को मम्मी नहा धोकर हरे रंग की बनारसी साडी मे हिरोइन बनकर, नो बजे घर से निकल पडी ओर दस बजे से पहले ही सबीना के पास पहुंच गयी।

सबीना मम्मी को देखकर बोल पडी – मामी इतनी खुबसूरत लग रही की क्या कहू!!

तो बोली – आज तुम्हारा वादा पूरा करना है बस!

ये सुनकर सबीना बोली – मामी इसके बदले कोई भी काम करने को तैयार है वो

मम्मी ने चलो अब चले फिर

तो सबीना ने कहा – बहुत जल्दी हो रही है

तो मम्मी बोली – ओर तो कोई नही है

तो सबीना ने कहा – कल मे उससे मिलकर आई ओर कहकर आई की कल हम सुबह आएगे तैयार रहना वो घर पर रहता है तो भी दो तीन से नहाता है।

तो मम्मी ने कहा – कमरा साफ कर ले धोकर ओर गंदे कपडे बाहर रख दे कमरे मै इत्र डालकर ओर अपने बाजु ओर झाटो के बाल साफ कर ले।

तो उसने कहा – रंडी के लिए इतना कोन करेगा

तो मम्मी ने कहा – हुर है अगर नही कीया तो वो वापिस चली जाएगी आगे तेरी मर्जी उसके बाद मुझे कुछ नही कहना कभी।

ये सुनकर मुश्ताक ने कहा – ठीक है!

सबीना ओर मम्मी चाय पीकर मुश्ताक के घर की तरफ निकल पडी ओर दो तीन मिनट के बाद वो मुश्ताक के घर के बाहर थी। मुश्ताक का घर दो कमरे का ही था बस छोटे छोटे कमरे ओर चारपाई एक टीवी के अलावा दूसरे कमरे मे रसोई का समान सबीना ने घर का पुराना दरवाजा बजाया।

तो मुश्ताक ने कहा – आया!

मम्मी की दिल की धड़कन बढ रही थी सोच सोचकर ही तभी मुश्ताक ने दरवाजा खोला मुश्ताक की लंबाई उसके कमरो के गेट से भी बडी थी 6.2 हाइट ओर फुल मसल लंबा चोडा हट्टा कट्टा 35 साल की उम्र का कुंवारा सांड कह सकते है। उसे मम्मी को देखकर मुश्ताक का मुह खुला ही रह गया।

तो सबीना बोली – क्या हुआ मुश्ताक मुह बंद कर लो ओर अंदर चलो

तो मुश्ताक बोला – सबीना ये मोहतरमा तो देखने लायक है जैसे जन्नत की हुर हो ये कहा मिल गयी, इसे तो देखकर ही दिल खुश हो गया!!

तो सबीना बोली – चुदाई तेरा अब्बु करेगा क्या?

तो मुश्ताक बोला – मै रूकूगा नही सोच लो कही गडबड हो गयी तो वो मम्मी के नाजुक बदन को देखकर आशंकित था।

तो सबीना बोली – मरेगी तो नही बाकी मै संभाल लूगी अब अंदर चल!

ये सुनकर मुश्ताक ने सबीना ओर मम्मी को कमरे मे बैठा दिया ओर पानी लेकर आ गया।

तो सबीना बोली – मुश्ताक आज आज पूरा दिन तेरा है मजे कर ले, जितने करने है ओर मेरा पिछा छोड देना ओर हा एक ताला दे दे मे बाहर लगाकर जा रही हू, शाम तक आराम से इसको पेल ले, चार पांच बजे तक आऊगी, तू तैयार है ना।

तो मुश्ताक ने कहा – कल रात को ही दो किलो बकरा खाया है ओर गोली भी पडी है मगर उसकी जरूरत नही रहेगी।

सबीना ने कहा – इसे चुदाई के साथ चुसाई भी बहुत पसंद है इसका सारा रस पी लेना पहले वर्ना ये संतुष्ट नही होगी।

तो मुश्ताक ने कहा – अच्छा चलो देखता हू

फिर मुश्ताक ने कहा – सबीना पाच मिनट रूको घर पर कुछ नही है चाय के लिए दूध ओर नाश्ता तो ले आऊ मोहतरमा के लिए ओर मम्मी को पूछा ओर कुछ चाहिए।

तो मम्मी बोली – दो बियर ओर एक डिब्बी सिगरेट मिलेगी क्या?!

तो मुश्ताक ने कहा – मे नही पिता मगर ला दूगा दस मिनट लगेगी!

तो मम्मी बोली – ले आओ कोई बात नही

ये सुनकर मुश्ताक चला गया,

सबीना ने कहा – मामी ये क्या है?!

तो मम्मी बोली – चुदाई का मजा भी आएगा ओर दर्द भी नही होगा

तो सबीना बोली – ये बात है

तो मम्मी ने कहा – सबीना जब पहली बार चार लडको से चुदी थी तब दारू पिकर ही चुदी थी बहुत मजा आया था

तब सबीना ने अब टॉपिक बदला ओर कहा – मामी बेटे का लंड देखा क्या?!

तो मम्मी हंस दी ओर बोली – सबीना तुम भी!

तो सबीना बोली – लगता है चुदवा आयी हो तभी नही बता रही कितना बडा लंड है बेटे का?!

ये सुनकर मम्मी बोली – अभी चुदी नही मगर जल्दी ही चुद जाऊगी

तो सबीना ने मम्मी को गले लगाकर कहा – मान गयी मामी, अच्छा ये तो बताओ उसका लंड देखा क्या?

तो मम्मी बोली – उसके बाप से तो बडा ही लग रहा था एक दिन सुबह सुबह हाथ फिराकर देखा पेन्ट के उपर से,

तो सबीना बोली – जल्दी ही सील खुलेगी बेटे के लंड की ओर हसने लगी

तभी मम्मी ने कहा – सबीना ये मुश्ताक तो विनोद खन्ना जैसा लग रहा है तू तो कह रही थी गंदा रहता है।

तो बोली – आपके लिए वर्ना ये नहाता ही नही मेने कहा अगर ऐसा नही लगा तो वो चली जाएगी

फिर मम्मी ने कहा – सबीना इसका लंड सच मे कितना बडा है

तो सबीना बोली – डर लग रहा है क्या

तो मम्मी बोली – नही बता ना

तो सबीना बोली – 9 inch से कम नही होगा!!

तो मम्मी बोली – 8 का तो खा चुकी हू बस गांड मे नही लिया था, वो आज से 20 साल पहले रोशन खान ने पेला था अपने 8 इंच के मूसल लंड से।

तो सबीना बोली – दर्द हुआ था क्या??

तो बोली – नही तब जवान हो रही थी तब तो दर्द मजा देता था बस

सबीना ने पूछा – तो अब दर्द होता है क्या??

तो मम्मी बोली – अब दर्द नही मगर चुत ओर गांड सूज जाती है इतने लंड एकसाथ लेने से ओर पादने को भी तरस जाती हू खडे होते बैठते समय पाद फुस फुस करके अपने आप ही निकल जाता है! ओर हसने लगे!

तो सबीना बोली – अब तो टटी भी निकलेगी बडे आराम से

तभी मम्मी बोली – सबीना वो तो वेसै ही आराम से निकलती है मगर एक बात तो तूने सही कही थी

सबीना बोली – क्या मामी??

मम्मी ने कहा – फिर कभी!

तो सबीना बोली – वो आधे घंटे से पहले नही आएगा पहले पेसै मांगेगा फिर कुछ लेकर आएगा आराम से कहो।

तो मम्मी बोली – बाद मे!

तो सबीना ने कहा – मै जा रही

तो मम्मी बोली – रूको तूने कहा था ना बेटी का ध्यान रखना

सबीना बोली – क्या वो भी रंडी बन गयी

तो मम्मी बोली – रंडी का पता नही मगर एक ड्राइवर का 6 इच का लंड तो वो अपनी चुत ओर गांड मे घपाघप ले रही थी।

तो सबीना बोली – तेरी तरह छिनाल बने उससे पहले ब्याह करवा दो कही भाग गयी तो नाक कट जाएगी।

ये सुनकर मम्मी बोली – मेने कह दिया है उम्मीद है जल्दी पता कट जाएगा फिर मै ओर बेटा ही रहेगे ओर तो ओर वो ड्राइवर साला मेरे बेटे का पक्का दोस्त है मेरी तारीफ भी करता है।

तो सबीना बोली – बेटी के जाने के बाद तेरी गांड मारकर टाइम पास करेगा ना ओर हसने लगी!

तभी दरवाजा खुला ओर मुश्ताक एक थैला लेकर आया वो तीन बियर दो सिगरेट की डिब्बी ओर नमकीन लेकर आया।

तो सबीना बोली – कभी हमे तो पान सुपारी भी ना खिलाई आज इतना खर्चा

तो मुश्ताक ने कहा – ये जन्नत की हुर है इसके लिए तो बेचकर खर्चा करना पडे तो भी कर देगा हर कोई

तो सबीना बोली – फिर मै चली कबाब मा हड्डी का क्या काम

तो मम्मी बोली – सबीना एक काम ओर है बस

सबीना ने कहा – बोलो मामी

तो मम्मी बोली – सबीना बर्फ लाकर दे यार बाद मे चाहिए ना ये दो गर्म हो जाएगी

तो मुश्ताक बोला – मे ले आऊगा

तो मम्मी बोली – छत से कूदकर जाओगे क्या

तो बोला – हा मे भूल गया

तो सबीना बोली – अभी लाती हू

दो मिनट मे ही सबीना पडोस के घर से दो कटोरे बर्फ ले आई ओर फिर मुश्ताक ने बोली मे बर्फ लपेटकर चारपाई के नीचे रख दी ओर मम्मी के पास बैठ गया,

ओर कहा – मोहतरमा अब अपना नाम तो बता दो

तो मम्मी बोली – जो नाम तुमको पसंद है वही लेकर बुलाओ ना

तो उसने कहा – मे तुम्हे हिना कहू??

तो मम्मी बोली – मे हिना ही हू अब से

तो मुश्ताक ने कहा – शुरू करे

तो मम्मी बोली – रूको बाहर जाओ जरा

ओर मम्मी ने कपडे खोलकर अपने पर्स से टाइट पजामा ओर टीशर्ट निकालकर पहन लिया मम्मी की बडी बडी चूचिया ओर गांड को देखकर ही अच्छो अच्छो के कच्छे गीले हो जाए ओर मम्मी ने बियर की बोतल खोलकर मुश्ताक को गिलास लाने को कहा।

तो मुश्ताक के पास काच का गिलास नही होने से मम्मी अब बोतल को मुह लगाकर पीने लगी तो मुश्ताक ने एक नमकीन का पैकट खोलकर मम्मी को दे दिया ओर मम्मी ने सिगरेट लगा ली ओर लंबे लंबे कश खिचने लगी।

तो मुश्ताक ने कहा – तुम सबीना से कहा मिली ओर तुम कहा से हो

तो मम्मी ने कहा – मुश्ताक मै एक Delhi ki Randi  हू पैसो के लिए चुदती हू ओर बडे बडे नेता ओर बिजनेसमैन ही मुझे बुलाते है क्योकी मै एक रात के 30,000 रूपया लेती हू।

तो मुश्ताक बोला – तुम्हारे लिए तो 50,000 भी दे दे क्या मस्त माल हो मगर मेरे पास पैसे नही है।

तो मम्मी बोली – सबीना मेरी अच्छी सहेली है ओर उसने तुमसे वादा कीया था की तुम्हारा लंड पूरा खाने वाली तुम्हारा साथ सुलाएगी तो ये बात उसने मुझे कही वो कई बार मेरे छोटे मोटे काम करती रहती है इसलिए मै आज उसका काम करने आ गयी हू बदले मे।

तो मुश्ताक बोला – सबीना के लिए आज से कुछ भी करने को तैयार हू

तो मम्मी बोली – वो तो समय बताएगा क्या होता है

मम्मी ने कहा – बियर ले लो तो मुश्ताक ने कहा वो नमाजी है इसलिए नशे से दूर रहता है

तो मम्मी बोली – ये तो बहुत बढिया बात है

मुश्ताक ने कहा – अच्छा!

तो मम्मी बोली – मुझे मुस्लिमो से चुदना बहुत पसंद है

तो मुश्ताक ने कहा – अबतक कितने मुस्लिमो से चुदी हो हीना??

तो मम्मी बोली – जब भी मोका मिला चुदी हू दिल खोलकर ओर गिनती तो क्या करू धंधे वाली हू कभी तो पांच एक साथ कभी एक भी नही तो चलता है

तो मुश्ताक बोला – आज लगता है मेरी इच्छा पूरी होगी

तो मम्मी बोली – क्या इच्छा है??

तो मुश्ताक ने कहा – मेरा लंड कोई पूरा चुत मे ले ले ओर कोई गांड मे ले ले बस आधी ओरते तो डर के मारे नही आती, बस यही है!

तो मम्मी ने बियर को मुह से लगाकर खाली कर दिया ओर सिगरेट का आखिरी कश लगाकर सिगरेट भी फेक दी,

ओर कहा – मुश्ताक मिया हीना तैयार है चढाई शुरू करो!!!

तो मुश्ताक ने पूछा – हीना जान मन तो कर रहा है तुम्हे कुचलने का मगर तुम्हे देखकर प्यार करने का मन कर रहा है

तो मम्मी बोली – राजा प्यार करने नही मै तो सिर्फ चुदने आयी हू तेरा मन करे वैसे रगड ले मुझे

ये सुनकर मुश्ताक ने कहा – तो फिर तैयार हो जा हीना रानी

तो मम्मी बोली – मे रानी नही रंडी हू पैल दे बस तू रानी बनाने का ख्वाब मत ले ओर आजा अब बकचोदी बहुत हो गयी

तो मुश्ताक ने कहा – रूक रंडी अभी तेरी सारी गर्मी निकलाता हू… बहन की लोडी… मुझ से बकवास कर रही है…

तो मम्मी बोली – हा कुते तेरे जैसे बहुत आए गये तु भी आजा अब

ये सुनते ही मुश्ताक के अंदर का शैतान जाग गया ओर वो हवशी की तरह मम्मी पर टूट पडा, दोस्तों मेरी माँ की अंतर्वासना सेक्स स्टोरी पढ़ते रहना अभी सेक्स रोमांच बाकी है। उसने अपने भारी भरकम हाथो से मम्मी की दोनो चुचियो को पूरी ताकत से दबा दिया मम्मी ने मे थी। मगर दर्द हुआ तो चीख निकल पडी चीख सुनते ही मुश्ताक हसने लगा,

ओर कहा – तेरी गांड तो अभी से फटने लगी कुतिया

तो मम्मी ने – कहा कुते वो तो 20 साल पहले ही फट चुकी है तू तो बस चोद ले… सील खोलने वाले तो मर्द अलग ही थे!!

ये सुनकर मुश्ताक ने कहा – कुतिया उनके लंड से आगे की आज मै फाडने वाला हू तेरी!

तभी मुश्ताक ने मम्मी की टीशर्ट खोल दी ओर चुचियो को कसकर दबाने लगा। मम्मी अब जोर से आहे भरने लगी। तभी मुश्ताक ने मम्मी की ब्रा खोलकर नंगी चुचियो को कसकर दबाने लगा। मम्मी की चुचियो को इतनी बेदर्दी से शायद ही किसी ने कुचला हो।

कभी मुश्ताक का वजन लगभग 1.20 किलो के करीब था ओर मेरी मम्मी का वजन 50 किलो ही था उसमे भी उनकी चुचियो ओर मोटी गांड का वजन ज्यादा था। मुश्ताक ने अब मम्मी के होठो को अपने होठो से मिला दिये ओर सारी लिपस्टिक उसने एक बार मे चाटकर साफ कर दी थी। तभी मम्मी की चुदास भी भडक गयी ओर मम्मी मुश्ताक के लंड को पजामे के उपर से टटोलने लगी ओर मम्मी को अंदाजा लग गया की आज उसकी चुत ओर गांड की खुदाई होगी।

चुदाई नही मुश्ताक सिर्फ पेलने मे माहिर था इसलिए वो फोरप्ले मे बिलकुल अनजान था मगर मम्मी को चुदाई के जितना ही फोरप्ले करके चुदना पसंद था। अब भी घर पर चुदाई रोज ना हो मगर मम्मी अपना दूध पिला ही देती ओर गाऊन उठाकर चुत का रस चखा देती है।

मेरी पत्नी टीचर है तो हमे दिन मे समय निकालने मे कोई दिक्कत नही होती है उधर मुश्ताक का लंड पजामे मे रहने लायक नही रहा। तो उसने पजामे का नाडा खोल दिया तो लंड कीसी काले नाग की तरह फुकार मारता हुआ बाहर निकला तो मम्मी की आखे फटी रह गयी। तभी मम्मी ने मुश्ताक के लंड को अपने कोमल हाथो मे भर लिया मुश्ताक का लंड दोनो हाथो मे देने के बाद भी मम्मी के हाथो से बाहर निकल रहा था।

मम्मी ने तभी मुश्ताक के हाथो को उपर कर दिया ओर उसका कुर्ता खोलने लगी मुश्ताक ने ना बनियान पहन रखी था ना ही कच्छा इसलिए वो एक मिनट मे नंगा हो गया ओर मम्मी उसके बदन को प्यार से सहलाने लगी। ओर उसको चारपाई पर लेटा दिया मम्मी मुश्ताक के उपर लेटकर उसको किस करने लगी।

पांच मिनट बाद मम्मी ने उसकी बगल को चाटकर मुश्ताक की हवस को भडका दिया तो मुश्ताक मम्मी के टाइट पजामे मे हाथ डालकर उनकी मोटी ओर नर्म नर्म गांड को कसकर दबाने लगा। मम्मी ने मुश्ताक की दोनो बगलो को अच्छे से चाटा ओर फिर उसकी मर्दाना छाती को चुमने लगी। तभी कुछ देर बाद धीरे धीरे मम्मी अपनी मंजिल पर पहुंच गयी ओर जैसे कोई बच्चा खिलोने से खेलता है वो भी मुश्ताक के लंड से खेलने लगी।

मम्मी से ज्यादा देर रूका नही गया ओर उन्होने मुश्ताक के लंड के सुपारे की चमडी को नीचे खिसकाकर उसपर जमी पपडी को चाटने लगी। मुश्ताक के लंड से पेशाब ओर वीर्य की खुशबु को सुघकर मम्मी की चुत से रस टपकने लगा मुश्ताक का लंड मोटाई मे 2.5 इच ही था जो राहत की बात थी मगर लबाई 9 से कम भी ना थी। लंड को चाटने के बाद मम्मी ने धीरे धीरे मुश्ताक का लंड मुह मे लेना शुरू कीया।

तो मम्मी 7 इच तो आराम से ले लेती मगर आगे का नही मम्मी की जिद थी पूरा लंड मुह मे लेकर देखूगी जरूर! एकबार तभी मम्मी ने पूरा मुह खोलकर लंड पर सिर का दवाब बढाया तो एक इच ओर लंड मुह मे घुस गया। मुश्ताक भी गोर से देख रहा था 8 इच लंड मुह मे गया,

तो मुश्ताक ने कहा – रंडी तू पहली रंडी होगी जो मेरा लंड इतना खा गयी अब तो मुझे यकीन हो गया है आज मेरा पूरा लंड चुत मे ले लोगी!

ये सुनकर मम्मी ने मुह से लंड बाहर निकालकर कहा – मुश्ताक आज तुम्हारी सारी ख्वाहिश पूरी होगी

तो मुश्ताक ने कहा – उसके बाद मे

तो मम्मी बोली – सोरी मुश्ताक उसके बाद मे तुम्हारे पास कुछ नही है इसलिए मे नही आ पाऊगी

तो मुश्ताक ने कहा – मेरी रंडी पेसै की चिता मत कर तुझे ऐसे ऐसे ग्राहक दिलवाऊगा की लाखो मिलेगे ओर हफ्ते मे एकबार हमे भी दे देना

तो मम्मी बोली – ठीक है देखते है!

ओर फिर से मम्मी ने मुश्ताक का लंड मुह मे भर लिया ओर कीसी रंडी की तरह चुसने लगी, मुश्ताक का लंड इतना कभी किसी ने नही चुसा था वो आखे बंद करके जन्नत की सैर कर रहा था, मुश्ताक के बस की बात नही रही,

तो मुश्ताक ने कहा – रंडी अब रहा नही जाता

तो मम्मी बोली – ठीक है कुते चढ जा बता किस स्टाइल मे करेगा

तो मुश्ताक ने कहा – तुझे जैसे चुदना पसंद है वेसै ही

तो मम्मी बोली – कुते मै रंडी हू घरवाली नही तेरा मन करे वेसै पेल नाटक मत कर!

ये सुनकर मुश्ताक को गुस्सा आ गया! मम्मी भी मुश्ताक का लंड देखकर चाह रही थी की वो उसे बेरहमी से चोदे इसलिए वो उसे भडका रही थी। आखिर मे मुश्ताक फस ही गया ओर उसने खडे होकर मम्मी का पजामा खिंचकर निकाल फेका ओर कच्छी को भी फेक दिया। अब उसने चारपाई पर मम्मी को लेटा दिया ओर मम्मी की गांड के नीचे दो तकिये लगाकर उनकी टागो को पूरा फैलाकर लंड चुत पर रखकर खिसने लगा।

तो मम्मी भी आहे निकलने लगी। मम्मी की चुत से रस लगातर धीरे धीरे निकल रहा था ओर उधर मम्मी के थूक से मुश्ताक का काला लंड चमक रहा था तभी मुश्ताक ने मम्मी की चुत मे आधा लंड पूरी ताकत से घुसा दिया। मम्मी की एक हल्की आह निकली तो दूसरे झटके मे लगभग 7 इच से ज्यादा लंड चुत मे घुस चुका था। मगर इतना तो रोज की बात थी असली Sex Kahani तो अब की थी बाकी बचा था जो मुश्ताक अब मम्मी पर झुक गया ओर उनके कधो को कसकर पकड लिया। मम्मी भी तैयार थी तभी मुश्ताक ने जोर का झटका लगाकर मम्मी की चुत मे पूरा लंड फसा दिया!

तो मम्मी जोर से चीख पडी बोली – बहन के लोडे मेरी चुत को फाड दिया ना…

तो मुश्ताक बोला – चुप कर रंडी बहन की लोडी अभी तो शुरू ही नही कीया… अब देख तू…

ये सुनकर मम्मी बोली – ओर इसके आगे जोडकर लाएगा क्या कुते… ये तो पूरा फस गया…

तो मुश्ताक बोला – रंडी अब तो गया है झटके

तेरी मा को लगेगे आज ओर मुश्ताक ने पूरी ताकत से अब 9 इची लंड से चुत को फाडना शुरू कर दिया। बियर के नशे मे मम्मी मदहोश होकर चुदाई का मजा ले रही थी ओर मुश्ताक को गाली देकर उसे जोर से चोदने का कह रही थी।

दस मिनट के बाद मम्मी की चुत ने ढेर सारा कामरस मुश्ताक के लंड पर उडेल दिया तो अब मुश्ताक का लंड मम्मी के कलेजे तक जाकर ठोकर मारने लगा था। मुश्ताक अब मम्मी के उपर लेट गया ओर चुचियो को भी कसकर दबाने लगा था मम्मी को चुत से ज्यादा दर्द चुचियो के दबाने से हो रहा था ओर वो जोर से चीख रही थी। तो मुश्ताक उतनी ही जोर से हस रहा था था मुश्ताक कीसी घोडे की चुदाई की तरह मम्मी को चोद रहा था।

ओर मम्मी भी मुश्ताक की चुदाई से बहुत खुश हो रही थी मम्मी को कुछ देर बाद मुश्ताक की ताकत का अंदाजा हुआ ओर उसकी ताकत थी। एक भी स्टाइल मे पूरी ताकत से पेलना मम्मी समझ गयी थी सबीना जैसी ओरते इस हरामी के आगे इसलिए ही नही टिक पाई खैर मम्मी को एक ही पोजीशन मे सारी रात पैल लो उन्हे कोई फर्क नही पडता है।

ओर आज मुश्ताक का गुरूर भी टूटने वाला था मुश्ताक मम्मी को जितनी ताकत से चोदता उतना ही मम्मी उसे ओर जोर से चोदने को कहती तो वो ओर तात लगाता लंड ओर चुत के इस जोरदार युद्ध मे आज भी जीत तो चुत की होनी थी।

ओर लंड की अकड को खत्म होना ही था मुश्ताक ने लगाकर 40 मिनट तक मम्मी की चुत की ठुकाई की तो मम्मी की चुत ने भी लंड को चार बार कामरस पिलाकर उसका हौसला बढ़ाया मगर 40 मिनट के बाद मुश्ताक के हवसी लंड ने हिम्मत हार दी।

तो मम्मी को पता लग गया ओर वो बोली – कुते अपने लंड का माल तो चखा दे अंदर मत डालना

तभी मुश्ताक ने लंड बाहर निकाल लिया ओर मम्मी के मुह मे डालकर मम्मी के सर को पकडकर उसे चोदने लगा। एक मिनट के बाद मुश्ताक के लंड ने जरूर उसके साइज के अनुसार मान रखा ओर तीन लंडो जितना वीर्य एक लंड ने उगलकर मम्मी के मुह को पूरा माल से भर दिया। मम्मी ने माल गटककर मुश्ताक के लंड के लंड को चाटकर साफ कीया ओर मुश्ताक मम्मी के पास चिपक गया।

तो मम्मी बोली – मुश्ताक अब गोली खाकर तैयार हो जा ओर मै बियर पीकर तैयार हो जाती हू इसबार जल्दी गया तो मै चली जाऊगी

तो मुश्ताक ने कहा – तू सच मे बहुत बडी रंडी है आज से मै तेरा गुलाम हू

तू मम्मी बोली – तेरे जैसे गुलाम नही चाहिए जिसे सैक्स ही नही करना आता हो

तो मुश्ताक ने कहा – कुतिया मे तेरी चुत को नही चाटने वाला आज आज चुद ले मे तो चुत ओर गांड फाडने का ही आदी हू चाटने कि नही

मम्मी ने कहा – ठीक है! 12 बज गये है चार बजे तक की बात है फिर तू तेरे मे मेरे

ये सुनकर मुश्ताक ने गोली निकाली ओर दो गोलीया खा ली। तो मम्मी ने बियर की बोतल खोलकर पीने शुरू की ओर साथ मे सिगरेट के कश लगाकर कमरे को धुए से भर दिया। मम्मी कीसी कोठे वाली रंडी की तरह बैठकर मजे से बियर पीने मे लगी थी ओर मुश्ताक बगल मे बैठा मम्मी को देखता रहा।

दस मिनट मै मम्मी बियर गटक गयी ओर फिर मुश्ताक को कहा – आजा कुते चढ जा बता इसबार केसै करेगा

तो मुश्ताक ने कहा – तू चाहै जैसे चुदना वैसे

तो मम्मी बोली – मेरी छोड अपनी देख

तो मुश्ताक बोला – लेट जा कुतिया पहले

मम्मी के लेटते ही वो साड मम्मी के उपर लेट गया ओर मम्मी के दूध को कसकर दबाने लगा ओर चुचियो को दबाकर मम्मी की चुचियो को मसलने लगा। मुश्ताक का लंड मम्मी की चुत मे लगने लगा तो मम्मी से रहा नही गया ओर उसने मुश्ताक को नीचे आने को कहा ओर एकबार फिर मम्मी उसकी उपर चढकर उसके होठ से अपने होठ लगाकर चुसने लगी ओर फिर उसके पूरे जिस्म को चाटकर अपनी ओर उसकी चुदास भडकाने लगी।

मम्मी ने एकबार फिर मुश्ताक के राक्षसी लंड को मुह मे ले लिया ओर एकबार फिर पूरा निगलने की नाकाम कोशिश करने लगी। दस मिनट के बाद मुश्ताक ने कहा रंडी पर मेरे लंड की सैर भी कर ले तो मम्मी ने लंड को चुत पर सेट कीया ओर धीरे धीरे दो मिनट मे मुश्ताक का पूरा लंड अपनी चुत मे ले लिया। तो मुश्ताक ने मम्मी को अपने सीने से चिपक लिया ओर कमर पर हाथ डालकर कसकर पकडकर मम्मी की चुत को फाडने मे लग गया।

इसबार मुश्ताक ने मम्मी को दिन मे तारे दिखा दिये ओर जोरदार तरीके से चुदाई करने लगा मम्मी भी जोर से चीखकर मुश्ताक को भडका रही थी मम्मी मुश्ताक इसबार भी पोजीशन बदलने के मूड मे नही था ओर वो लगातार कमर उठाकर मम्मी की चुत को फाडता रहा।

मम्मी की चुत का झरना जैसे आज फट गया था वो लगातार कामरस छोड रही थी मगर मुश्ताक गोली खाने के बाद ओर भी वहशी हो गया था,

ओर मम्मी की चीखे सुनकर गालीया देने लगा – क्यो रंडी फट गयी ना,

कहकर मम्मी को चोदता रहा मगर मम्मी भी उसको लगातर गाली देकर उसकी मा बहन करती रही ओर चीखने की आवाज से शायद आस पडोस मे भी पता लग गया। आज मै के हाथ कोई रंडी लगी है मुश्ताक की चुदाई खत्म होने का नाम ही ले रही थी। तो मम्मी का नशा भी चुत की चुदाई से उतरने लगा तो उनकी चुत मे हो रहै दर्द से वो अब परेशान होने लगी।

मगर मम्मी भी हार मानने वाली नही थी उधर मुश्ताक चाहता था की वो ये कहे छोड दे मुझे मगर मम्मी चाह रही थी। ये झडे तो उसका पिछा छुडे ओर दोनो जने अपनी अपनी बात को रखने के लिए लगे रहे। खैर एक घंटे चुदाई के बाद आखिरकार मुश्ताक के लंड ने भी जवाब दे दिया ओर उसका बदन अकडने लगा। तो मम्मी भी अपनी गांड उसके लंड पर जोर से पटकने लगी।

करीब पांच मिनट के अंदर मम्मी की चुत ने कामरस छोड तो मुश्ताक के लंड ने भी ढेर सारा वीर्य मम्मी की चुत मे छोड दिया। जिससे मम्मी को राहत मिली ओर मम्मी अब निढाल होकर मुश्ताक के उपर लेट गयी ओर मुश्ताक भी पसीने मे तर हो चुका था।

दोनो जनो अब सुस्ताने लगे मुश्ताक मम्मी की चुदाई से खुश था मगर साथ मे मुश्ताक को ठेस भी लगी। मम्मी उसके आगे गिडगिडाई नही मुश्ताक चाहता था वो गिडगिडाकर रहम की भीख मांगे, मगर मुश्ताक को ये मोका दूसरी बार मे भी नही मिला ओर समय रेत की तरह फिसला जा रहा था।

दो बज चुके थे चार बजे सबीना को आना था मुश्ताक ने अब मम्मी की गांड मारने का सोचा ओर एकबार फिर मुश्ताक ने दो गोलीया खा ली। तो मम्मी की हालात भी खराब हो चुकी थी, मम्मी अब नीचे उतरकर बाहर आई ओर मुश्ताक के बाथरूम मे जाकर मूतने लगी। तो दो मिनट तक मम्मी की चुत से सीटी बजती रही मम्मी का पेट खाली हुआ तो वो अंदर आकर बेसुध लेट गयी ओर एकबार फिर से मम्मी पांच मिनट के बाद मम्मी उठी ओर सिगरेट लगाकर सिगरेट खिचने लगी। उस मुस्ताक लम्बे लंड वाले आदमी से चुदाई करके मम्मी का तो पसीना और मूत दोनों झूट गया था।

सिगरेट पीकर मम्मी ने कहा मुश्ताक थोडी बर्फ पीस दो तो मुश्ताक ने साफ कपडे मे बर्फ लपेटकर बर्फ पिसकर आ दी मम्मी ने खाली बोतल मे बर्फ डालकर उसमे बीयर डाली ओर फिर दूसरी बोतल मे बची जगह मे बर्फ डाल दी ओर धीरे धीरे मम्मी बीयर पीने लगी। 20 मिनट मे मम्मी ने बीयर खत्म करने के बाद एक सिगरेट ओर लगा ली ओर सिगरेट पीकर,

मम्मी ने कहा – मुश्ताक तीन बजने है एक राऊड ओर कर लो फिर सबीना आ जाएगी

तो मुश्ताक बोला – मै तो तैयार हू

तो मम्मी ने कहा – अपने लंड को भी जगाओ ना ओर हसने लगी

तो बोला – इसबार तेरी गांड को फाडकर तेरी हसी ना मिटाई तो कहना

ये सुनकर मम्मी बोली – हसी तो नही मिटने वाली

तो मुश्ताक ने मम्मी को चारपाई के पास खडा कर लिया ओर मम्मी को चारपाई पर झुका दिया। इसबार मुश्ताक ने मम्मी को लंड नही चुसने दिया ओर उसने अपना सुखा लंड गांड पर सेट कर दिया। मम्मी की सासे अटक गयी मुश्ताक ने अपने लंड का सुपारा मम्मी की गांड मे घुसा दिया।

तो मम्मी ने चारपाई की चद्दर को अपनी मुठी मे भर लिया मुश्ताक ने ताकत लगाकर दो झटको मे पूरा गांड मे ठोक दिया। तो मम्मी दर्द से बिन मछली के पानी की तरह तडफडाने लगी,

ओर जोर से चिल्लाने लगी – बहन के लोडे मारेगा क्या?? आराम से डाल दे…

तो मुश्ताक ने कहा – रंडी की गांड फट गयी क्या सच मै???

मम्मी की गांड फट गयी थी, इसकी गवाही मुश्ताक के लंड के सुपारे पर लगा खून बता रहा था। मुश्ताक ने लंड बाहर निकालकर मम्मी को दिखाकर कहा देख रंडी आज तेरी गांड फटी है।

मम्मी ने कहा – कुते फट को कब गयी आज थोडी गहरी ओर हो गयी है

तो मुश्ताक ने कहा – अब तो तू गधे का लंड भी ले लेगी पूरा

ओर एकबार फिर से मुश्ताक ने मम्मी की गांड मे लंड ठोक दिया मम्मी चाहकर भी कुछ नही कर पाई मगर मम्मी की आंखो से निकलते आंसू उनके दर्द को बया कर रहे थे। उधर अब मुश्ताक अपने लंड पर गुरूर करते हुए मम्मी की गांड की ठुकाई करने लगा।

तो मम्मी की दर्द से हालात खराब होने लगी मगर मुश्ताक के लंड की मोटाई कम होने से मम्मी की तकलीफ जल्द ही खत्म हो गयी। ओर दस मिनट के बाद लंड की जगह बनने के बाद अब मम्मी गांड हिलाकर लंड अंदर लेने लगी तो मुश्ताक के पसीने आने लगे। मुश्ताक सोच रहा था की वो रहेगी मगर मम्मी ने मुश्ताक को रुलाने की सोच ली ओर,

वो अब मुश्ताक को गाली देने लगी – क्या हुआ बहन के लोडे चोद ना इतना ही है तो अब तू घुस जा मेरी गांड मे बहन के लोडे पेल जोर से हरामी कुते कही के,

मुश्ताक गाली सुनकर भडक गया ओर गांड पर थप्पड मारकर गांड फाडने मे लगा। तो मम्मी भी लगातार चुत से रस बहाकर चुदाई का मजा लेती रही चुत से छुटते कामरस से मम्मी के शरीर मे थकान आ रही थी। तो मुश्ताक पूरी ताकत से मम्मी को चोदकर मम्मी को अपने लंड को जितना चाहता था ओर दोनो जने घमासान चुदाई करते रहे।

मम्मी की चीखो से आस पडोस के लोगो को भी यकीन हो गया था की आज कीसी की मा बहन चुद रही है मुश्ताक के नीचे मगर दोनो को इस बात की कोई परवाह नही थी। वो तो एक दूसरे से बस चुदाई का मजा ले रहे भरपूर करीब एक घंटे गांड मरवाने के बाद मम्मी से खडा रहना मुश्किल हो चुका था।

मगर उसे पता था ये जल्दी ही झडने वाला है तो वो हिम्मत करके गांड उठाकर चुदती रही मुश्ताक ने मम्मी की चोटी पकडकर उनकी गर्दन मे भी दर्द कर दिया था। इसी कारण मम्मी भडक गयी थी ओर उसे लगातार गंदी गंदी गालीया दे रही थी। मगर मुश्ताक को गाली सम्मान लख रहा था मम्मी की टांगो मे कपकपी छूट गयी थी चुदते चुदते मुश्ताक ये देखकर हस रहा था।

मगर मम्मी के हौसले के आगे वो बैचेन भी था तभी कुछ देर बाद मुश्ताक के लंड ने भी जवाब दे दिया ओर उसने मम्मी की गांड मे अपने लंड का लावा उगल दिया मम्मी की गांड की अच्छी शिकाई हुई ओर मम्मी को भी अब राहत मिली सारा माल निकलने के बाद मुश्ताक ने अपना लंड गांड से बाहर निकाला तो मम्मी घुटने मोडकर वही बैठ गयी ओर इस तरह एक हवशी के साथ मम्मी ने तीन बार चुदाई का चरमसुख प्राप्त कीया।

दस मिनट बाद मम्मी खडी हुई तो मुश्ताक के वीर्य उनकी जाघो पर आ गया ओर मम्मी चारपाई पर लेट गयी ओर दस मिनट सुस्ता कर खडी होकर बाथरूम गयी ओर पेशाब करने के बाद मम्मी ने पानी लेकर अपनी चुत ओर गांड को धोकर अच्छे से साफ कीया।

मम्मी की गांड मे बहुत दर्द हो रहा था मगर ऐसा दर्द तो मम्मी चाहती ही है खैर मम्मी अंदर आयी ओर बेसुध पडे मुश्ताक के उपर लेट गयी ओर उसे चुमने लगी।

मुश्ताक ने कहा – अब मरने का गम नही होगा जो एक इच्छा थी मेरा लंड कोई पूरा अंदर लेकर मेरे झडने तक मुझ से चुदे वो आज हो गया बहुत सी रंडीया चोदी मगर कीसी ने चुदाई पूरी नही की तेरी तरह

तो मम्मी बोली – अभी दिल भरा नही तो ओर चोद ले एक बार चार बजने मे आधा घंटा पडा है थोडी देर ओर रूक जाऊगी

तो वो बोला – अब मे खुश हू इसबार जल्दी बुलाऊगा

तो मम्मी बोली – वो अब नही आएगी

तो मुश्ताक ने कहा – तेरा जो रेट है उससे ज्यादा दूगा

तो मम्मी बोली – मुश्ताक सबीना के लिए चुदी हू आज तो बस

तो मुश्ताक ने – रंडी होकर नखरे पैसे के लिए चुदती है तो मुझ से क्यो नही

तो मम्मी बोली – मुश्ताक चुदाई के साथ मजा भी आना चाहिए, मुझे चुत चुसाना, गांड चटवाना, अपना पेशाब पिलाना ओर पेशाब पीना बहुत पसंद है! अगर कोई ये करे तभी मै जाती हू सिर्फ पेसो के लिए नही मेरे लिए लोग लाइन लगाकर इंतजार करते है! तुझे कुछ पता ही नही इसलिए मे नही आऊगी ओर हा कभी तू!

ये सब करने को तैयार हो तो बता देना सबीना को मै आ जाऊगी!

मुश्ताक की मा चुद गयी ये सुनकर वो – बोला ये सब मै नही करूगा

तो मम्मी बोली – तो तेरे पैसे बच गये ओर घर पर अपने हाथ से हिला लियो

ये सुनकर मुश्ताक बोला – ठीक है रंडी हाथ ही ठीक है

ओर मम्मी ने कहा – चलो ठीक है मुश्ताक अब से सबीना को तग मत करना उसने अपना वादा निभा दिया ओर कभी मेरी शर्त मानने को तैयार हो तो बुला लेना,

आज से तू पहले नबर पर है रोशन खान को तूने दूसरे नबर पर कर दिया! आज मेरी लिस्ट मे 7 ओर 6 वाले तो आम ही मिलते है 8 ओर 9 वाले नसीब से मिलते है!

ओर मम्मी होकर ब्रा पेटी पहनकर साडी पहनने लगी मम्मी ने पेटीकोट ब्लाउज पहनकर साडी पहनी ओर सबीना का इंतजार करने लगे। सबीना सही समय पर आई ओर ताला खोलकर अंदर आ गयी।

तो मम्मी ने कहा – सबीना आज से ये तंग नही करेगा तुझे इसका काम कर दिया

तो सबीना बोली – मामी तुम ठीक हो कोई दिक्कत तो नही हुई ना

मम्मी बोली – मुझे क्या दिक्कत होगी सबीना चल तेरे घर चलकर बात करेगे

ओर मुश्ताक ने कहा सबीना आज से तुम फ्री हो जाओ। जब सबीना ओर मम्मी बाहर निकली तो सबीना ने हिजाब से चेहरा ढक लिया ओर मम्मी का मुह खुला था तो आसपास के घरो की महिलाए कहने लगी। आज ये कुतिया मुश्ताक से अपनी गांड ओर चुत फडवाकर आई है छिनाल की आवाजे यहा तक सुन रही थी।

इसकी मा बहन चोदकर रख दी आज तो मुश्ताक ने मम्मी हसकर चलती रही ओर दो मिनट के बाद मम्मी सबीना के घर पर पहुंच गयी ओर सबीना ने मम्मी को पानी लाकर दिया,

ओर कहा – मामी अब बताओ केसा रहा कोई दिक्कत तो नही हो रही है

तो मम्मी बोली – दिक्कत क्या मुझे बहुत मजा आया मगर वो चुतिया सैक्स क्या है जानता ही नही इसलिए दुबारा चाहकर भी नही आऊगी

तो सबीना बोली – क्या हुआ??

तो मम्मी ने कहा – बहनचोद लंड डालकर झटके मारने के लिए उसे कुछ आता ही नही ना तो मेरी चुत को चाटा ना ही गांड को चाटा अब बता ओर तो ओर उसे लंड चुसाना भी पसंद नही चुतिया कही का…

उसका लंड देखकर मन कीया की रोज चुदने आ जाऊ मगर अब कभी नही…

तो सबीना बोली – वो वहशी ऐसा ही है

तो मम्मी बोली – ओर सुना तेरा कैसा चल रहा है काम काज

तो सबीना ने कहा – काम ठीक है अब तो बस बेटे से चुदवा दो मुझे

तो मम्मी बोली – सब्र कर सबीना पहले लडकी की शादी करवाकर ही उसे अपना रस पिलाऊगी ताकी रोज रोज बाहर ना जाना पडे पता नही आमिर कब चला जाए ओर शोकत भाईजान भी रोज नही आ सकते है। समय के कारण तो जुगाड घर का घर मे ही बन जाएगा ओर वो बेटी का यार भी मुझ पर लट्टु हो रहा है।

सोच रही हू उसे शादी के बाद ड्राइवर रख लू ताकी दिन मे उससे चुद लू ओर बेटे से भी तो दो लंड का जुगाड हो जाएगा। मेरा तो कही जाना नही पडेगा ओर तो ओर शोकत भाईजान है ही ओर उनकी दुकान पर काम करने वाले लडके भी है।

तो सबीना बोली – लडके मतलब??

तो मम्मी बोली – शोकत भाईजान से चुदने के बाद उन लडको को भी जवानी का रस भी पिलाया था। वो तो मेरे हाथ मे ही है ओर तुम सुनाओ आजकल तुम कहा गांड मरवा रही हो?!!

तो सबीना बोली – हमारा क्या यहा मोहल्ले के जितने भी लंड है वो अपने ही है ओर जब जो मिल जाए लेकर टाइम पास हो जाता है बस ओर तुम सुनाओ??

मम्मी ने कहा – वही रोज का काम ओर आमिर से चुदाई!

तो सबीना बोली – आमिर से एकबार ओर मुझे भी चुदवा दो

तो मम्मी बोली – कल सुबह 10 बजे सब्जी मंडी पर आ जाना घर के आगे तैयार मिलूगी ओर दोनो मजे करेगी!

तो सबीना ने कहा – ठीक है मामी!

फिर मम्मी ने कहा – 5 बज गये है मै चलती हू अब कल दोनो को चुदना है एकसाथ अब बदन दर्द हो रहा है थोडा आराम करूगी जाकर, ओर बेटे को अपनी छलकती जवानी का दिदार भी करवाना है तो दोनो हसने लगी ओर मम्मी घर पर आ गयी।

कहानी अभी जारी है, पढ़ते रहिये मेरी माँ की अन्तर्वासना की आत्म कथा को, और मिलते है अगले भाग में।