प्यार में फसा कर मकान मालकिन को चोदा : – Makan Malkin Ki Chudai

हेलो दोस्तों, मेरा नाम सलीम है. मैं रहने वाला गोरखपुर का हूं. अपनी पढ़ाई के चक्कर में मैं लखनऊ आया था, तो वहां पर मैंने कॉलेज में एडमिशन लिया। फिर मेरे पापा ने एक कमरा मुझे किराए पर दिला दिया, और मैं वहीं रहने लगा।

मेरा मकान मालिक का नाम श्रद्धा था। आंटी बहुत अच्छे से मुझसे बोलती थी। उनके पति रोज़ शराब पी कर घर आते थे, और आंटी के साथ गाली-गलोच मार-पीट करते थे। संडे का दिन था, और मुख्य घर पर फ्री था।

थोड़ी देर के बाद मुझे आंटी की आवाज़ आने लगी, तो मैंने खिड़की से झाँक कर देखा। अंकल आंटी को मार रहे थे. वो रो रही थी. उसके बाद मैं थोड़ा सा डर गया, और अपने कमरे में चला गया। आधे घंटे के बाद आंटी ने मुझे आवाज़ दी-

आंटी: सलीम, ज़रा मेरे रूम में आ जाओ।

जब मैं कमरे पर गया, तो आंटी के हाथ पर चोट के निशान थे।

तो मैंने आंटी से कहा: आप अपने घर क्यों नहीं चली जाती हैं? अंकल आपको इतना मारते पीटते हैं.

वो बोली: सलीम मेरी शादी को 10 साल हो गए हैं, और मेरा 8 साल का लड़का भी है। मैं ऐसे नहीं जा सकती.

मैं: मैं आपके हाथ में मरहम लगा देता हूं।

फिर मैंने जहां कट किया वहां पर ट्यूब लगा दी। इस तरह आंटी से मेरी बात-चीत होने लगी। आंटी ने मुझसे बोला-

चाची: जब तुम्हारे अंकल हो, मुझसे बात मत करना। नहीं तो मार-पीट करेंगे.

मैने कहा: ठीक है आंटी.

फिर कुछ दिन भी इतने बीत गए. अंकल अपने गांव चले गए थे, तो आंटी ने मुझसे बोला-

आंटी: मेरे पति गाँव गये हुए है. तुम नीचे ही आ कर सोना.

सगी बहन की सील तोड़कर दिया चुदाई का चरमसुख – Bhai Behen Ki Chudai मैने कहा: ठीक है आंटी.

फिर रात को मैंने आंटी के वहां खाना खाया। आंटी से मैं बात करने लगा.

मैंने पूछा: आंटी अंकल आपको क्यों पीटते हैं?

वो बोली: इसके अलावा कुछ कर भी तो नहीं पता है मेरे साथ।

मैंने जान-बूझ कर पूछा: आंटी क्या नहीं कर पाते?

आंटी कहने लगी: तुम नहीं समझोगे सलीम।

मैंने कहा: आप बताएंगे तो मैं समझ जाऊंगा।

वो बोली: तुम बहुत छोटे हो.

मैंने आंटी से कहा: मैं 20 साल का हो गया हूं।

तो आंटी हंसने लगी और कहने लगी: जो शादी के बाद होता है सलीम, अब वो नहीं कर पाता। क्योंकि वो शराब बहुत पीता है।

तो मैंने आंटी से कहा: आंटी अगर आप बुरा न मानें तो मैं एक बात पूछूं?

आंटी बोली: हा पूछो.

मैं: आंटी क्या आपको सेक्स करने का मन नहीं होता?

आंटी को थोड़ी शरमाई.

फ़िर वो बोली: होता तो बहुत है.

मैं: आंटी किसी को सेट किया होगा आपने?

आंटी बोली: मैंने किसी से कोई संबंध नहीं रखा।

मैंने कहा: इतनी खूबसूरत और सेक्सी हैं आप।

आंटी हसने लगी.

फिर मैंने कहा: अगर आप मेरी बीवी होती तो मैं रोज़ सेक्स करता आप से।

वो कहने लगी: अभी तुम बहुत छोटे हो।

मैं: अच्छा आंटी?

आंटी: हा, जाओ अपने रूम में तो जाओ.

मैं रात को आ कर बाहर सो गया। सुबह 6:00 बजे वो उठी, और मेरे लिए चाय और नाश्ता लेकर आई। मेरे कमरे का दरवाज़ा बंद नहीं था, और आंटी जब मेरे कमरे में आईं तो उनकी नज़र मेरे लंड पर पड़ी। आंटी हस्स कर बोली-

आंटी: लो चाय नाश्ता कर लो.

मैंने आंटी को ऊपर से नीचे तक देखा तो अनहोनी एक स्माइल दी। उसके बाद उसने मेरे लंड की तरफ इशारा लिया। जब मैंने नीचे देखा तो मेरा लंड खड़ा था।

आंटी बोली: ये कैसे?

फिर मैं चाय को साइड में करके आंटी के पास गया।

मैं आंटी से बोला: इसे शांत आप ही कर पाओगी।

आंटी ने मुस्कुराकर बोला: पहले चाय पी लो।

चाय पीने के बाद मैंने कहा: आंटी चाय मैंने पी ली है।

आंटी बोलीं: अब तुम कॉलेज जाओ, फिर शाम को हम बात करेंगे।

मुझे कॉलेज में उनका ख्याल आ रहे थे। फिर जब रात के 9:00 बजे, हमने डिनर कर लिया। फिर आंटी अपने बेडरूम में चली गई और पीछे से मैं भी आंटी के रूम में चली गई।

मैंने कहा: आंटी आपने कहा था शाम को।

आंटी हसने लगी. फिर मैं आंटी के पास जा कर बैठ गया। मैंने आंटी के पेट पर अपना हाथ रखा, और उसे रगड़ने लगा। श्रद्धा आंटी की उम्र 38 साल थी। चूचियाँ उनकी 36″ साइज की, गांड उनकी 38″ की थी।

आंटी ने कहा: जो मन करे वो करो.

फिर मैंने उनकी चूचियों को अपने हाथों में लेके दबाना शुरू किया। 5 मिनट दबाता रहा, फिर आंटी के होठों को किस करने लगा। वो भी रिस्पॉन्स देने लगी. थोड़ी देर के बाद मैंने आंटी के सारे कपड़े उतार दिये, और आंटी ने मेरे कपड़े भी उतार दिये। आंटी की चूत पर कोई बाल नहीं था।

उन्हें मेरा लंड अपने हाथ में पकड़ा, और उसको रगड़ने लगी। उसके बाद मैंने आंटी से बोला-

मैं: आंटी लॉलीपॉप है को चूसो.

वो बोली: सलीम तेरा लॉलीपॉप बहुत लंबा और मोटा है।

तो मैंने आंटी से कहा: अब तो ये आपका है।

गर्मी में छत पर चाची की चुदाई की – Chachi Ki Chudai थोड़ी देर चुनने के बाद आंटी बोली: सलीम अपना लंड डाल दो मेरे अंदर।

फिर मैं आंटी के जोड़ों के बीच में आया, और अपना लंड उनकी चूत के छेद पर लगा कर झटका मारा। मेरा आधा लंड आंटी की चूत में चला गया।

आंटी के मुँह से आवाज़ आई: हाय मैं मर गई।

फिर मैंने ज़ोर से झटका मारा, और मेरा पूरा लंड आंटी की चूत में चला गया। आंटी की आँखों से आँसू आ गए। वो सर इधर-उधर घुमने लगी, और बोली-

आंटी: सलीम दर्द हो रहा है. निकालो इसको, बहुत दर्द हो रहा है।

मैंने आंटी की चूचियों को दबाना शुरू किया, और जब वो शांत हुई, मैंने अपना लंड धीरे-धीरे अंदर-बाहर करना शुरू किया। आंटी अपनी गांड उठा कर मेरा साथ दे रही थी। उसके बाद मैंने अपनी स्पीड बढ़ाई और चोदने लगा। आंटी चिल्लाती रही और मैंने अपना माल उनकी चूत में छोड़ दिया। फिर मैं आंटी के बगल में ही लेट गया।

वो बोली: सलीम बहुत मजा आया आज मुझसे चुदवाने में।

फिर मैंने आंटी से बोला: अभी तो रात बाकी है।

वो बोली: क्या पूरी रात चुदाई करोगे मेरी?

मैं: हा आंटी.

फिर आधे घंटे के बाद मैंने आंटी की चुदाई फिर चालू की। आंटी को खूब चोदा आधे घंटे तक। उसके बाद हम सो गये। सुबह 4:30 बजे मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया। आंटी बेखबर सो रही थी. फिर मैंने आंटी को सीधा किया, और उनके दोनों जोड़े अपने कंधे पे रखे।

आंटी बोली: सलीम क्या कर रहे हो?

मैं: एक बार फिर चोद रहा हूँ आपको।

आंटी ने कहा: नहीं सलीम, बहुत हो गया।

वो मन करने लगी, लेकिन मैं नहीं मन। मैंने चूत के अंदर लंड डाल दिया, और उनको चोदने लगा। 40 मिनट मैंने उनकी चुदाई की, और फिर सो गया। मैं कॉलेज भी नहीं गया. 11:30 बजे मैं उठा तो मैंने जा कर देखा तो आंटी ठीक से चल नहीं पा रही थी।

उनकी मटकती गांड देख कर मेरा फिर से खड़ा हो गया, और मैंने उनको किचन में ही पकड़ लिया। मैंने आंटी को पूरी तरह से तृप्त कर दिया था। वो भी समझ चुकी थी, कि ये बार-बार होने वाला था। इसलिए अब वो भी चुदने में आना-कानी नहीं करती थी।

जब तक मेरी ग्रेजुएशन नहीं हुई, मैं वही किराए पर रहा, और मैंने आंटी की चुदाई की।

दोस्तों कहानी का मजा आया हो तो इसको दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।