XXX चूत चुदाई स्टोरी भाग 2


New Sex Stories in
Telugu    Hindi   Kannada   Malayalam   Tamil

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “पापा के बॉस को जिस्म से रिझाया : XXX चूत चुदाई स्टोरी भाग 2”। यह कहानी तन्वी की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएंगी मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

XXX चूत चुदाई स्टोरी में पढ़ें कि मेरे पापा के बॉस ने मेरे नंगे बदन की मालिश करके मेरे अंदर की वासना को हवा दे दी. फिर उसने मेरी नंगी चूत को चाटा और मुझे पागल कर दिया.

कहानी के पिछले भाग: XXX चूत चुदाई स्टोरी में आपने पढ़ा कि मैं अपने लालच के कारण अपने पापा के बॉस को अपनी जवानी के नज़ारे दिखाने लगी थी। मैं पैर में मोच आने के बहाने उसे बेडरूम में ले आयी थी. वो मेरी जांघें सहला रहा था.

उसके बाद अंकल ने ऐसा प्लान बनाया कि मुझे 2 दिन अंकल के घर रुकना पड़ा.
वह मुझे अपने घर में अकेला छोड़कर ऑफिस चला गया।

अब आगे की XXX चूत चुदाई स्टोरी:

कुछ देर बाद होटल से खाना आ गया जो उसने पहले ही ऑर्डर कर दिया था.
मैंने खाना खाया और आराम करने लगी और कुछ देर बाद मुझे नींद आ गई.

अचानक दरवाजे की घंटी बजी और मैं जग गयी. मैंने समय देखा तो शाम के 5 बज रहे थे.
मैंने दरवाज़ा खोला तो सामने अंकल थे.

उनके हाथ में फल और कुछ खाने का सामान था.
मैंने उनसे सामान ले लिया और अंदर रख दिया.

कुछ देर बाद अंकल फ्रेश होकर आये और हम दोनों ने साथ में चाय पी।

शाम को अंकल अकेले बैठे ड्रिंक कर रहे थे और मैं कमरे के अंदर टीवी देख रही थी.
फिर कुछ देर बाद हम दोनों ने खाना खाया और मैं अलग कमरे में सोने चली गयी.

मैं बिस्तर पर लेटी हुई थी लेकिन मुझे नींद नहीं आ रही थी. रात के 10 बज चुके थे और मेरे दिमाग में बस यही चल रहा था कि शायद अंकल मेरे कमरे में आएँ और कुछ करें। (XXX चूत चुदाई स्टोरी)

मैं बस यही सोच रही थी और मेरी सोच सही निकली.
कुछ देर बाद अंकल मेरे कमरे में आये.

अंकल को देखते ही मैं उठकर बैठ गयी.
अंकल मेरे पास आये और उनके हाथ में कुछ था.

मैंने ध्यान से देखा तो उसके हाथ में नोटों की गड्डी थी.
उसने मेरा हाथ पकड़ा और पैसे मेरे हाथ में रख दिए और कहा- ये लो और अपने दोस्त को दे देना.

जब मैंने वो पैसे देखे तो वो मुझे बहुत ज्यादा लगे.
फिर मैंने पैसे गिने तो वो 20 नहीं बल्कि 30 हजार थे.

मैंने अंकल से कहा- अंकल, मुझे बस 20 हजार चाहिए. ये 30 हजार हैं.

अंकल बोले- बाकी पैसे तुम्हारे लिए हैं. आप उनसे अपने लिए कुछ ले लीजिए. इसे मेरी ओर से एक उपहार समझो. और हां… आपको ये पैसे लौटाने की भी जरूरत नहीं है.

ये बात हम दोनों तक ही रहनी चाहिए. अगर तुम्हें भविष्य में किसी चीज की जरूरत पड़े तो मुझे दोस्त समझकर बताना. मैं तुम्हारे लिए सब कुछ करूंगा।

यह सुनकर मेरी ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा.
ऐसा लग रहा था मानो कुबेर का खजाना मेरे हाथ लग गया हो.

वैसे भी अंकल बहुत अमीर थे, इतना पैसा उनके लिए कोई बड़ी बात नहीं थी.

इसके बाद अंकल ने मुझसे पूछा- अब तुम्हारे पैर का दर्द कैसा है?
मैंने कहा- अब बिल्कुल ठीक है. शायद यह आपकी कल की मालिश का असर है!

इससे पहले कि मैं कुछ बोलती, उसने मुझसे कहा- ठीक है, चलो मैं आज एक बार फिर तुम्हारी मालिश कर देता हूँ। आज मैं सारा दर्द ख़त्म कर दूंगा. (XXX चूत चुदाई स्टोरी)

मैं भी अब उसे मना नहीं कर सकी और मैंने भी हां कह दिया. अंकल उठ कर तेल लेने चले गये और मैं वहीं बिस्तर पर लेट गयी.

आज भी मैंने हाफ लोअर पहना हुआ था लेकिन आज मैंने अन्दर पैंटी और ब्रा पहनी हुई थी।
मैं सोच रही थी कि आज अंकल पता नहीं कहां छू लेंगे.

कुछ देर बाद अंकल तेल की शीशी लेकर वापस आये और मेरे पैरों के पास बैठ गये.

सबसे पहले उसने मेरे पैरों पर तेल लगाना शुरू किया.
पहले दिन की तरह ही मैं दोनों घुटने मोड़कर बैठी थी।

आज भी अंकल की नज़र मेरी Tight Chut की तरफ जा रही थी, लेकिन उस दिन की तरह आज उन्हें मेरी चूत नहीं दिख रही थी क्योंकि आज मैंने अंदर पेंटी पहनी हुई थी.

फिर भी अंकल की नजर बार-बार वहीं जा रही थी.
मुझे पता था कि लोअर के नीचे से मेरी पैंटी उसे दिख जायेगी.

कुछ देर तक मेरे पैरों की मालिश करने के बाद अंकल ने मुझसे कहा- अब मैं तुम्हारी कमर पर तेल लगा देता हूँ, जिससे तुम्हें बहुत अच्छा महसूस होगा. मैं करवट लेकर पेट के बल लेट गयी और आँखें बंद कर लीं।

आज मैंने उन्हें इतनी आजादी दे दी थी कि वे कहीं भी तेल लगा सकते थे. मैं आज उन्हें रोकना नहीं चाहती थी क्योंकि मैं भविष्य में भी उनका फायदा उठाना चाहती थी.

मैं अंकल को इतना हताश कर देना चाहती थी कि वो मेरे लिए कुछ भी करने को तैयार हो जाएं.
अंकल ने मेरी टी-शर्ट मेरी पीठ तक उठा दी, जिससे मेरी ब्रा का स्ट्रैप भी दिखने लगा।

अब वो मेरी कमर पर तेल लगाने लगा. कुछ देर बाद उसने मेरा लोअर थोड़ा और नीचे कर दिया क्योंकि लोअर की वजह से वो मालिश नहीं कर पा रहा था.

उसकी मालिश से मुझे बहुत मजा आ रहा था और मुझे हल्की नींद आने लगी थी.
मैं चुपचाप लेटी हुई थी और अंकल हल्के हाथों से मेरी मालिश कर रहे थे.

अचानक अंकल बोले- Tanvi, अगर तुम बुरा न मानो तो एक बात कहूँ?
मैंने कहा- हां अंकल, बताइये … मैं क्यों बुरा मानूंगी?

अंकल बोले- मैं ठीक से मालिश नहीं कर पा रहा हूँ. अगर तुम अपना लोअर नीचे कर दोगी तो मैं तुम्हारी अच्छे से मसाज कर पाऊंगा. इसे गलत मत समझिए. अगर आपको अच्छा लगे तो ही करें।

मैं कुछ देर तक सोचती रही और मैंने उनसे कहा- आप नीचे भी कर सकते हैं, कोई दिक्कत नहीं है.
मेरी इजाजत पाकर अंकल ने मेरा लोअर नीचे कर दिया. (XXX चूत चुदाई स्टोरी)

लेकिन मैंने नहीं सोचा था कि अंकल इतना गिर जायेंगे.
उसने मेरे लोअर को घुटनों तक खींच दिया, जिससे मेरे पूरे नितंब नंगी हो गये।

मैं हमेशा हाफकट पैंटी पहनती हूँ जिससे मेरे आधे चूतड़ खुले रहते हैं।
उस वक्त मुझे बहुत शर्म आ रही थी लेकिन मैं चुपचाप लेटी रही.

मुझे भी लगा कि कुछ पाने के लिए मुझे इतना कष्ट सहना पड़ेगा!

मेरी इजाजत पाकर अंकल ने मेरी टी-शर्ट भी मेरी गर्दन तक उठा दी और मेरी ब्रा की स्ट्रिप भी खोल दी, जिससे मेरी पूरी पीठ नंगी हो गयी.

अब अंकल ने मेरी कमर और पीठ पर ढेर सारा तेल लगाया और हल्के हाथों से मालिश करने लगे.
उसकी उँगलियाँ मेरी पीठ पर बड़े प्यार से घूम रही थीं जैसे वो मुझे सहला रहा हो।

अब उसने अपनी उंगलियाँ मेरी गर्दन से लेकर मेरी Moti Gand तक फिराना शुरू कर दिया।
वो बार-बार यही करता रहा और हर बार उसकी उंगलियाँ मेरी पैंटी को थोड़ा नीचे कर देतीं।

कुछ ही देर में मुझे एहसास हुआ कि मेरी गांड की दरार पैंटी से बाहर आ गयी है.
इसका मतलब था कि मेरी पैंटी आधी नीचे थी।

मुझे अंकल का मूड अच्छा नहीं लग रहा था लेकिन मैं फिर भी चुपचाप लेटी हुई थी.

मैंने कई बार सोचा कि अंकल को मना कर दूँ.. लेकिन तब तक मेरे अन्दर एक नशा सा चढ़ चुका था जो मुझे अच्छा लग रहा था।

जब अंकल अपनी तेल लगी उंगलियाँ मेरे शरीर पर फिरा रहे थे तो मुझे एक अलग ही आनंद मिल रहा था।
तो मैं चुपचाप लेटा रहा.

मेरे कुछ न बोलने से अंकल की हिम्मत भी बढ़ती जा रही थी.
और अब उनकी उंगलियाँ मेरी गांड की दरार के अंदर जाने लगीं और अब वे अपने दोनों हाथों से मेरे चूतड़ो की मालिश करने लगे। (XXX चूत चुदाई स्टोरी)

अब तक मेरी पैंटी मेरी गांड से नीचे खिसक चुकी थी और मेरी गांड पूरी नंगी हो गयी थी.
अंकल मेरे चूतड़ो को फैला कर तेल लगा रहे थे जिससे मेरी चूत उन्हें दिखाई दे रही थी।

अगले कुछ पलों में मुझे उसकी एक उंगली का स्पर्श गांड के छेद पर महसूस हुआ.
उस वक्त तो मानो मुझे बिजली का झटका लग गया हो!

लेकिन मुझे भी उसका स्पर्श अच्छा लग रहा था.

फिर भी मेरी तरफ से किसी भी तरह का विरोध न पाकर उसकी हिम्मत बढ़ गई और अब वह बिना किसी रोक-टोक के अपना हाथ मेरी गांड की दरार में डालने लगा और मेरी चूत और गांड के छेद को सहलाने लगा।

अब उसका एक हाथ मेरी कमर पर घूम रहा था और दूसरा हाथ मेरे चूतड़ो को फैलाकर मेरी चूत को अंदर से सहला रहा था।

तब तक मेरी हालत खराब हो चुकी थी और मेरी चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया था.
मसाज के बहाने ही अंकल ने मुझे गर्म कर दिया था.

मैंने अपना सिर थोड़ा ऊपर उठाकर अंकल की तरफ देखा तो वो मुझे देखकर मुस्कुरा रहे थे.

मैंने नीचे देखा तो अंकल के लोअर में तंबू लगा हुआ था.
इसका मतलब था कि उसका लंड पूरी तरह से खड़ा हो गया था।

मैंने सोच लिया था कि आज मैं जरूर चुदूंगी क्योंकि मैंने उसका विरोध न करके गलती की थी.
लेकिन सच तो ये था कि मुझे भी उसका ये सब करना अच्छा लग रहा था.

You can install this Beep Stories Web App to get easy access

अब तक अंकल समझ चुके थे कि मैं ज्यादा विरोध नहीं करूंगी, इसलिए अब उन्होंने अपने दोनों हाथ मेरी पीठ पर घुमाते हुए मेरे Big Boobs को पकड़ना शुरू कर दिया.

मेरा पूरा शरीर कांपने लगा और मैं पूरी तरह गर्म हो गयी.
मतलब मैं सेक्स के मूड में थी.

मेरे अंदर का लालच अब वासना में बदल चुका था.
अब मुझे समझ नहीं आ रहा था कि क्या करूँ.
वहीं मुझे निर्णय लेना था कि मुझे क्या करना है।

लेकिन उस वक्त मैं वासना की लहर में बह गई और मैंने अपने आप को अंकल के हवाले कर दिया.

अब अंकल मेरे साथ कुछ भी कर सकते थे, मैं मना नहीं करने वाली थी.

जल्द ही अंकल मेरे बहुत करीब आ गए और अब उनकी गर्म सांसें मेरी पीठ पर महसूस हो रही थीं.
जल्द ही उसके होठों का पहला चुम्बन मेरी गर्म पीठ पर पड़ा।

मैं बिल्कुल रोमांचित हो गई थी और अब अंकल को मेरी पूरी सहमति थी क्योंकि अब तक मैंने कोई भी विरोध नहीं किया था.

अब अंकल ने मेरी पीठ पर सिलसिलेवार चुम्बन दिये।
वो मेरी पीठ को अपनी जीभ से चाट रहा था और साथ ही अपने हाथों से मेरी गांड को सहला रहा था.

कुछ ही देर में अंकल ने अपने सारे कपड़े उतार दिए और सिर्फ अंडरवियर पहने हुए मेरे शरीर को सहला रहे थे.

थोड़ी देर बाद उसने मुझे पलट दिया और हम दोनों ने पहली बार नज़रें मिलाईं।

कुछ देर तक एक दूसरे की आंखों में देखने के बाद मैंने बिना सोचे अंकल से कहा- रहने दो अंकल, ये सब गलत है.
अगर किसी को पता चल गया तो मुसीबत हो जाएगी. अंकल बोले- किसी को कुछ पता नहीं चलेगा. इसकी चिंता मत करो.

इसके बाद अंकल ने एक एक करके मेरे सारे कपड़े उतार दिए और अब मैं पूरी नंगी हो गई थी.
अंकल मेरे चेहरे के पास आये और मेरे होंठों को अपने होंठों से दबा लिया.

वो बहुत प्यार से मेरे होठों को चूस रहा था और साथ ही एक हाथ से मेरे एक स्तन को सहला रहा था।

अब अंकल मेरे ऊपर आ गये थे और मैं उनके नीचे दबी हुई थी.
अंकल ने भी अपना अंडरवियर उतार दिया था और वो भी अब पूरे नंगे थे.

उसका लम्बा मोटा लंड कभी मेरी जाँघों को सहलाता तो कभी मेरी नाभि में घुस जाता। अब अंकल मुझे बुरी तरह चूम रहे थे, कभी गालों पर, कभी होठों पर, कभी मेरे स्तनों पर तो कभी मेरी अंडरआर्म पर। (XXX चूत चुदाई स्टोरी)

कुछ देर बाद अंकल बैठ गये और मुझे उठाकर अपनी गोद में बैठा लिया और मुझे सहलाने और चूमने लगे.

मेरी दोनों टाँगें उसकी कमर में फंसी हुई थी जिससे मेरी चूत पूरी तरह से फ़ैल गयी थी।
उसका लंड मेरी गांड के नीचे दबा हुआ था, जिससे मुझे एक अलग तरह की गर्मी मिल रही थी.

अंकल एक हाथ से मुझे पकड़े हुए थे और दूसरे हाथ से मेरी गांड मसल रहे थे.
हम दोनों काफी देर तक ऐसे ही एक दूसरे की बांहो में पड़े रहे और एक दूसरे को गर्म करते रहे.

कुछ देर बाद अंकल ने मुझे वापस बिस्तर पर लेटा दिया और मेरी दोनों टाँगें फैला दीं और मेरी गुलाबी चूत में अपना मुँह रख दिया। (XXX चूत चुदाई स्टोरी)

अब वो मेरी चूत को अपनी जीभ से मलाई की तरह चाटने लगा.
जिससे मैं एकदम बेकाबू हो गई और बिस्तर पर इधर उधर छटपटाने लगी.

ऐसा लग रहा था जैसे वो आज मेरी चूत खा ही जायेंगे.
मैं उसका इस तरह मेरी चूत चाटना बर्दाश्त नहीं कर पाई और जल्द ही स्खलित हो गई।

दरअसल, मैं हमेशा उंगलियाँ चलाती थी और मुझे चरमसुख मिलता था।
लेकिन आज का झड़ना ऐसा था मानो मैं हवा में उड़ रही हूँ।
मुझे ऐसा लग रहा था कि अंकल मेरी चूत को ऐसे ही चाटते रहें और मैं ऐसे ही मजा लेती रहूँ.

इसके बाद भी अंकल नहीं रुके और मेरी चूत चाटते रहे.

जिससे मैं फिर से गर्म हो गई और अब अंकल मेरे ऊपर आ गए और मेरी चुचियों पर हमला बोल दिया.

उसने मेरे दोनों निपल्स को चूमा और अपनी उंगलियों से ऐसे दबाया कि ऐसा आनंद मुझे अपने जीवन में पहले कभी नहीं मिला था. कुछ ही देर में मेरे दोनों गोरे गोरे स्तन एकदम लाल हो गये। (XXX चूत चुदाई स्टोरी)

अब मुझसे बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं हो रहा था और मेरी चूत की हालत ऐसी हो गयी थी जैसे उसमें सैकड़ों चींटियाँ घूम रही हों. मैं अंकल से चिपकी हुई थी और अपने नाखून उनकी पीठ पर गड़ा रही थी.

अंकल को मेरी बेताबी का पूरा अंदाज़ा हो गया था.
अब वो रुका और मेरी दोनों जांघें पकड़ कर फैला दी.

मैं समझ गयी कि अब अंकल Chut Chudai करने वाले हैं.

जैसे ही अंकल ने अपना लंड मेरी चूत में डाला, मैंने तुरंत अंकल को रोक दिया और बोली- नहीं नहीं अंकल, ऐसे नहीं! अगर कुछ हो गया तो क्या होगा?

अंकल समझ गए कि मैं कंडोम के बारे में बात कर रही हूं.
उन्होंने कहा- तुम इसकी बिल्कुल भी चिंता मत करो, मैं कुछ नहीं होने दूंगा.

इसके बाद अंकल ने मेरी जांघों को अपनी जांघों से दबा लिया और मेरे ऊपर लेट गये.
अब उसने एक हाथ नीचे करके अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया और मुझे कस कर पकड़ लिया.

उसने अपने लंड का टोपा बिल्कुल चूत के छेद पर रखा था.
और जैसे ही उसने अपने लंड पर जोर लगाना शुरू किया तो उसका लंड मेरी चूत को फैलाने लगा.

जैसे ही उनका लंड का टोपा मेरी चूत के अंदर गया, मैंने अंकल को कस कर पकड़ लिया और जोर से चिल्लाई- आआह मम्मीईई ईईई नहीं ईईईईईई! (XXX चूत चुदाई स्टोरी)

अंकल समझ गए कि मैं उनका लंड सहन नहीं कर पाऊंगी.
और उसने मुझे जोर से दबाया और धीरे-धीरे अपना पूरा लंड मेरी चूत में घुसा दिया.

मैं चिल्लाती रही लेकिन अंकल नहीं रुके और लंड को चूत के आखिरी सिरे तक घुसा दिया.

अब मैं पसीने से पूरी तरह भीग चुकी थी और दर्द के कारण मेरी आँखें बंद हो चुकी थीं।
मुझे ऐसा लगा जैसे मैं बेहोश हो गयी हूं. मैंने इतना दर्द कभी नहीं सहा था.

लेकिन अंकल एक्सपर्ट थे, उन्होंने काफी देर तक अपना लंड चूत में रखा और धीरे-धीरे आगे-पीछे करते रहे।
कुछ देर बाद जब मेरी चूत ढीली हो गई और लंड आसानी से अन्दर-बाहर होने लगा, तब उसने मुझे छोड़ा.

अब अंकल मुझे धीरे धीरे चोदने लगे.
फिर भी उसका लंड बहुत टाइट जा रहा था और मैं ‘आआह आआह ऊऊईई उईईई उईईई आआउच मम्मीईई ईई ईई आआह!’ कर रही थी। (XXX चूत चुदाई स्टोरी)

अंकल बिना रुके अपना लंड अन्दर-बाहर कर रहे थे.

धीरे-धीरे उसकी स्पीड बढ़ती जा रही थी.
जल्द ही वे अपनी पूरी गति पर आ गए और अब वे पूरी ताकत से मुझे चोद रहे थे।

मैं काफी देर तक रोती रही लेकिन जल्द ही मुझे भी मजा आने लगा और मैं उनका साथ देने लगी. अब मेरी गांड अपने आप उछलने लगी थी जिससे अंकल को भी बहुत मजा आ रहा था और वो मुझे जोर जोर से चोद रहे थे. (XXX चूत चुदाई स्टोरी)

उसकी चुदाई से मेरी चूत से बहुत गन्दी गन्दी आवाजें निकल रही थी.

जल्द ही मैं स्खलित हो गयी.
लेकिन अंकल नहीं रुके और करीब 20 मिनट की जबरदस्त चुदाई के बाद वो मेरे अंदर ही झड़ गये.

झड़ने के बाद अंकल ने अपना लंड बाहर निकाला और बगल में लेट गये.
कुछ देर बाद मैं उठी और अपनी पैंटी लेकर बाथरूम में चली गयी.

बाथरूम में जाने के बाद मैंने अपनी चूत की तरफ देखा जिस पर चारों तरफ झाग लगा हुआ था।
मैंने अपनी चूत साफ़ की और पेशाब करने के बाद वापस आकर लेट गयी.

उसके बाद कुछ देर में अंकल फिर से तैयार हो गये और मुझे फिर से चोदने लगे. इस बार उसने मुझे घोड़ी बनाया, अपनी गोद में खड़ा किया और कई पोजीशन में मेरी चुदाई की.

उस रात हम दोनों ने तीन बार सेक्स किया और अगले दिन पूरी दोपहर हम सेक्स करते रहे. उसी रात अंकल ने मेरी चूत की सील भी तोड़ दी और अब वो गांड भी मारने की कहने लगे. (XXX चूत चुदाई स्टोरी)

मैं उसके घर पर दो दिन रुकी और हम दोनों यूं ही सेक्स करते रहे.

जब भी हमें उसके घर से लौटने के बाद सेक्स करना होता था तो मैं कॉलेज का बहाना बनाकर उसके घर चली जाती थी.
मैं हफ्ते में तीन से चार दिन उनके घर रुकती थी और हम दोपहर भर सेक्स करते थे।

अंकल मेरे इतने शौकीन हो गए हैं कि मैं जब भी कुछ मांगती हूं तो वो कभी मना नहीं करते और साथ ही मुझे उतना प्यार भी देते हैं.

कई बार तो ऐसा हुआ कि जब मम्मी-पापा रात को सो जाते तो मैं चुपचाप अंकल को बुला लेती और हम दोनों मेरे कमरे में पूरी रात सेक्स करते। (XXX चूत चुदाई स्टोरी)

इसके साथ ही अंकल मेरी मम्मी को भी चोदते हैं लेकिन मैंने ये बात कभी अंकल को नहीं बताई कि मुझे ये सब पता है.
वो अंकल मुझे भी चोदते हैं और मेरी माँ को भी!

दोस्तो, XXX चूत चुदाई स्टोरी पर कमेंट में जरूर बताएं कि आप लोगों को मेरी चुदाई कैसी लगी?

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “” की कहानियां पढ़ सकते हैं।