XXX मामी चुदाई स्टोरी P1


New Sex Stories in
Telugu    Hindi   Kannada   Malayalam   Tamil

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “मामी की वासना को मिला लंड का सहारा: XXX मामी चुदाई स्टोरी भाग 1”। यह कहानी उदय की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

XXX मामी चुदाई कहानी मेरी सगी मामी की कहानी है. मेरे मामा का शहर में अफेयर चल रहा था, इसलिए वह अपनी पत्नी का ख्याल नहीं रखते थे। जब मैं उसके घर गया…

नमस्कार दोस्तों, कैसे हैं आप लोग!

तो चलिए आज मैं आपको हाल ही में घटी एक अद्भुत सेक्स कहानी के बारे में बताता हूं.

मेरा नाम उदय है, मैं लखनऊ का रहने वाला हूँ। मेरी उम्र 21 साल की है। मैं फिलहाल ग्रेजुएशन की पढ़ाई कर रहा हूं.
मेरी हाइट 6 फीट है और मैं जिम भी जाता हूं.

जैसा कि मैंने आपको अपनी रुचि बतायी थी कि मुझे शादीशुदा लड़कियाँ ज्यादा पसंद हैं, इसलिए यह XXX मामी चुदाई कहानी भी मेरी सगी मामी की चुदाई की कहानी है.

मेरी मामी की उम्र लगभग 30 साल होगी. मामी का रंग गोरा है और वह न तो बहुत पतली हैं और न ही बहुत मोटी हैं, एक परफेक्ट फिगर वाली युवा महिला हैं। उनका एक 4 साल का बेटा भी है. (XXX मामी चुदाई)

बात उस समय की है जब मेरे नाना-नानी के घर में गया था जब मेरे बड़े मामा की बेटी की शादी होने वाली थी।

मेरा ननिहाल एक छोटे से गांव जैसे इलाके में है. नाना एक किसान हैं और बड़े मामा उनका हाथ बंटाते थे। छोटे मामा शहर में रहकर काम करते हैं।

शादी की तैयारी के लिए मेरी मां ने मुझे नानी के घर जाने के लिए कहा क्योंकि वहां मदद के लिए किसी की जरूरत थी.
इसलिए मैं अगले दिन निकल गया और शाम तक वहां पहुंच गया.

वहां का मौसम मुझे बहुत ठंडा और काफी अच्छा लग रहा था.
वहां के खुले मैदान और ठंडी हवा मुझे एक अलग ही आनंद दे रहे थे.

मैं वहां गया तो सबसे मिला.
मैंने छोटी मामी को देखा, वो साड़ी में थीं.
उन्होंने मेरा हालचाल पूछा.

उस समय तक मेरे मन में उसके लिए कोई भावना नहीं थी.
मैंने उनसे पूछा- मामी, छोटे मामा दिखाई नहीं दे रहे?

तो उसने बताया- वो शहर में ही है, जल्दी आ जायेंगे।
फिर मैं नहाकर खाना खाने आया और खाना खाकर सो गया.

अगले दिन से मैंने शादी की तैयारी शुरू कर दी.
ऐसे ही कुछ दिन बीत गए. शादी का दिन नजदीक था.

एक दिन मैं घर पर ही था क्योंकि ज्यादा काम नहीं था।
दोपहर का समय था.

नाना, नानी, बड़े मामा सभी खेत पर गये हुए थे।
बड़ी मामी खाना खाकर सो रही थीं.

जिस बहन की शादी होने वाली थी वह अपने कमरे में अपने होने वाले दूल्हे से प्यार-मोहब्बत की बातें कर रही थी.

मैं अकेली बोर हो रहा था तो मैंने सोचा कि क्यों न यश के साथ खेलूँ।
यश छोटी मामी का बेटा है.

मैं मामी के बेटे के साथ खेलने के लिए उनके कमरे की तरफ जाने लगा.
उनका कमरा ऊपरी मंजिल पर था.

जैसे ही मैं दरवाजे पर पहुंचा, मैंने अपनी मामी को फोन पर रोने की आवाज सुनी.
इससे मैं आश्चर्यचकित रह गया कि मामला क्या है।

कुछ देर बाद मुझे पता चला कि वो अपने पति से बात कर रही थी.
शायद मामा को आने में कुछ दिन और लग रहे थे.
मामी को ये पसंद नहीं आया.

मैं आपको बताना चाहता हूं कि मामा पिछले 4 महीने से शहर में थे. इन चार महीनों में वह केवल दो बार घर आया।
खैर…वहां रहकर मुझे घर की अंदर की बातें पता चलने लगीं। (XXX मामी चुदाई)

मेरी मामी से अच्छी बनती थी और मैं उनसे खूब बातें करता था।
उसके लिए मैं एक ऐसा व्यक्ति था जिसके साथ वह एक दोस्त की तरह थोड़ी बहुत बातें कर सकती थी।

फिर अगले दिन सबको कपड़े खरीदने बाज़ार जाना था।
हम सब एक कार में जाने वाले थे.

सभी ने खरीदारी की, काफी देर हो चुकी थी।
जब मैंने अपनी खरीदारी पूरी की तब तक शाम हो चुकी थी।

हम सब लौट रहे थे.
मामी मेरे बगल में बैठी थीं. कार के अंदर अंधेरा था.

तभी ड्राइवर ने एक कट मारा, जिससे मामी मेरी तरफ झुक गईं और उनके Big Boobs मेरी कोहनी से छू गया.
आह क्या बताऊं दोस्तो… क्या मस्त अहसास था.

उस वक्त मैंने इसे नजरअंदाज कर दिया.’
वो भी हंस पड़ी और बोली- ये ड्राइवर कैसे गाड़ी चला रहा है?

फिर कुछ देर बाद बातें करते-करते उसका हाथ मेरी जांघ पर आ गया.
मैंने इस बात को हल्के में ले लिया.

फिर कुछ देर बाद हम सब घर पहुँच गये.
घर आने के बाद मामी अपने कमरे में चली गईं और मैं सामान उतारने लगा.

रात को सोते समय मुझे यह छोटी सी घटना फिर याद आने लगी। मैंने बार-बार सोचा.
फिर मैंने अपने कपड़े उतारे, अपने लंड को सहलाया और मामी को याद करके मुठ मारी.

अब मेरा मामी को देखने का नजरिया बदल गया था.
मैं दिन भर उन्हें घूरता रहने लगा, हमेशा उन्हें ढूंढने लगा और ख्याली पुलाव पकाने लगा।

शादी का दिन आ गया.
मामा भी आये थे. मामी खुश थी क्योंकि मामा आ गए थे।

उस दिन मामी ने बहुत सुंदर लहंगा पहना हुआ था. लेकिन मामा मेरी मामी को भाव नहीं दे रहे थे।
मामा और मामी एक दूसरे से दूर रहते थे, बीच-बीच में मामा के पास किसी का फोन आ जाता था और वे फोन पर बात करने लगते थे।

शादी हो रही थी, सब कुछ ठीक चल रहा था।

मामी मेरे सामने आ गईं.
उन्होंने कहा- अरे उदय, तुमने मेरे साथ एक भी फोटो नहीं खिंचवाई, चलो मेरे साथ खिंचवाओ.

मैं मामी को लेकर उनके कमरे में गया, वहां थोड़ी शांति थी.
वहां मैंने अपने फोन से अपनी और अपनी मामी की कई तस्वीरें लीं.

मामी बहुत अच्छे मूड में थीं, वो बहुत करीब से फोटो खिंचवा रही थीं.
फोटो खींचते समय मेरे हाथों से उसके भरे हुए मम्मे मेरी छाती से छू रहे थे और कभी-कभी वो मेरे ऊपर हाथ रख कर सेल्फी ले रही थी. (XXX मामी चुदाई)

ऐसे ही रात बीत गई, शादी हो गई.
विदाई भी हुई.

सारे मेहमान भी जाने लगे.

मैं सो गया और दोपहर को उठा।
उठ कर खाना खाया और मामी के कमरे की ओर जाने लगा.

You can install this Beep Stories Web App to get easy access

मैंने देखा कि यश एक तरफ खेल रहा था और मामी बिस्तर पर बैठी रो रही थी।
मैं झट से उनके पास गया और उनसे पूछा- क्या हुआ मामी … आप क्यों रो रही हैं?

कुछ देर बाद उसने बताया- तुम्हारे मामा चले गए. कल आये थे और आज चले गये. ऐसा कौन सा महत्वपूर्ण कार्य करते हैं? मैं क्या करूँ? मैं उसे सांत्वना देने और चुप कराने की कोशिश कर रहा था।

फिर उसने अपना सिर मेरे सीने पर रख दिया और रोने लगी.
मैंने उससे कहा- कोई इमरजेंसी रही होगी.

फिर उसने जो कहा वो सुनकर मैं दंग रह गया.

मामी ने कहा- तुम्हारे मामा का अफेयर चल रहा है. वह जहां काम करता है वहां एक लड़की रहती है.
मैं क्या कहता, कुछ देर के बाद मैं वहां से अपने कमरे में चला गया.

मुझे मामी के लिए बहुत बुरा लग रहा था. उनके जीवन में प्यार की बहुत कमी थी.
मैंने उसे खुश करने का फैसला किया और उससे खुलकर बात करना शुरू कर दिया।

दोपहर को यश, वो और मैं सब उसके कमरे में थे।
मामी और मैं फ़ोन पर लूडो खेल रहे थे।

मैं जीतने लगा तो वो मेरा फोन लेकर भागने लगी.
तो मैंने कहा- मामी, ये ग़लत है, मैं जीत रहा हूँ.

लेकिन वो ख़ुशी के मारे कमरे में भागने लगी और मैं भी उसके पीछे भागने लगा।
यश हम दोनों को देखकर ताली बजा रहा था।

फिर मामी बिस्तर पर चढ़ गईं और मैं भी उनके पीछे चला गया.
वह बिस्तर पर लेट गई और फोन को मेरी पहुंच से दूर करने लगी.

मैं फोन लेने की कोशिश करते हुए उससे फोन छीनने लगा.
फिर अचानक सब कुछ सामान्य हो गया और मैंने देखा कि हम दोनों एक दूसरे से चिपके हुए थे.

हम दोनों जल्दी से उठे, फिर मैंने थोड़ा नाटक करते हुए कहा- ठीक है, तुम जीत गयी. अब मुझे कुछ खिलाओ, मैं भूखा हूं उसने खाना खाने की बात की और बोली- तुम यहीं बैठो, मैं यहीं लेकर आती हूँ. (XXX मामी चुदाई)

ये कहते हुए मामी ने अपनी साड़ी ठीक की और बाहर चली गईं.

मामी और मैं बहुत करीबी दोस्त बन गये थे. उसके जाते ही मुझे उसके बदन का स्पर्श और खुशबू याद आने लगी. मेरा लंड खड़ा होने लगा था.

खाना खाकर मैं वहीं लेट गया.
मामी अपना काम करने बाहर चली गयी.

जब मैं उठा तो शाम हो चुकी थी.
मैं उठ कर छत पर आ गया.

उधर देखा, मामी वहीं थीं.

हम दोनों छत पर टहलने लगे और बातें करने लगे.

शाम होते-होते गाँव में चारों तरफ लाइट जलने लगी थीं।
बहुत ही खूबसूरत नजारा था, आसमान में चांद उगने लगा था।

हम दोनों बातें कर रहे थे.

मैंने कहा- सच में आज मौसम बहुत अच्छा लग रहा है. ऐसे में कॉफ़ी मिल जाती तो मज़ा आ जाता!
मामी बोलीं- अभी बनाती हूं.

वह नीचे गई और जल्दी से दो मग कॉफ़ी बना लाई।
हम दोनों कॉफ़ी पीते हुए बातें कर रहे थे.

उसने मुझसे कहा कि उदय आज मैं इतने महीनों में पहली बार इतनी खुश हुई हूँ. तुम्हारे मामा घर नहीं आते और घर पर कोई ऐसा दोस्त नहीं है जिससे मैं अपनी भावनाएँ व्यक्त कर सकूँ। मैंने कहा- अरे मामी, सब ठीक हो जाएगा.

उन्होंने बताया- एक पत्नी के लिए उसका पति ही सब कुछ होता है, लेकिन मेरी जिंदगी में ऐसी कोई खुशी नहीं है. लेकिन तुम आये और तुमने मुझे कुछ ख़ुशी दी। ये सब सुनकर मुझे भी ख़ुशी हुई.

वो शाम बिलकुल टाइटैनिक फिल्म जैसी थी. सुखद हवा चल रही थी. हम दोनों यह नजारा देख रहे थे.
मामी बहुत खुश थी. (XXX मामी चुदाई)

फिर उसने मेरी तरफ देखा.
मेरी आँखों में मैंने उसकी आँखों में एक प्यास देखी, मैंने वो अधूरापन देखा।

उसने मेरी तरफ उम्मीद से देखा.
मैं उसकी आंखों में खोने लगा.

हम दोनों करीब आने लगे. हम दोनों एक दूसरे में खोने लगे.

फिर न जाने क्या हुआ कि हम दोनों एक-दूसरे की ओर खिंचने लगे।
मुझे उसकी साँसें महसूस होने लगीं, मेरे शरीर में एक अजीब सी सिहरन होने लगी।

हम दोनों बहुत करीब आ गये थे. मैंने धीरे से अपने होंठ उसके प्यासे मुलायम गुलाबी होंठों पर रख दिये।
ऐसा लग रहा था जैसे समय रुक गया हो।

मेरे एक हाथ ने उसकी कमर को पकड़ लिया। वो मदहोशी में मेरे होंठों को अपने होंठों से दबा रही थी.
दोस्तों वो पल बहुत ही खूबसूरत था.

मैं उस पल को कभी वासना की दृष्टि से नहीं देखूंगा, वह एक प्यासे आदमी को कुआँ ढूंढने जैसा था; एक उम्मीद जगी.
मुझे उससे प्यार होने लगा.

कुछ देर बाद हम दोनों होश में आये.
उसने मुझसे नज़र नहीं मिलाई और जल्दी से कप लेकर नीचे चली गई।

मैंने भी अपना मुँह दूसरी तरफ कर लिया.
वह चली गई थी, मैं उसकी कमी महसूस करते हुए छत पर टहलता रहा।
काफी देर बाद मैं नीचे गया.

मामी शर्मा रहीथी और मुझसे दूर भाग रही थी।
उसने मुझे खाना दिया और मेरी तरफ देखा.

मैंने उसे पढ़ा, उसकी आँखें मुझसे कुछ चाह रही थीं।
लेकिन मैंने अपना सिर नीचे कर लिया और खाना शुरू कर दिया।
बहुत टाइम से मामी से बात नहीं हुई. (XXX मामी चुदाई)

फिर मैं सोने चला गया।
मुझे नींद नहीं आ रही थी.

बहुत समय हो गया। रात के 1 बज चुके थे।
मैं सिर्फ उन चीजों के बारे में सोच रहा था जो उस टाइम घटी थीं और शायद उसकी भी यही स्थिति थी.

मैं करवटें बदल रहा था लेकिन नींद नहीं आ रही थी. थोड़ी देर बाद मेरे फ़ोन की लाइट जली.
मैंने देखा कि मामी का मैसेज आया था. (XXX मामी चुदाई)

उसमें लिखा था कि मुझे नींद नहीं आ रही, अजीब सा महसूस हो रहा है. बिल्कुल भी सही नहीं लग रहा. क्या तुम कुछ देर के लिए मेरे कमरे में आ सकते हो? मैंने ठीक है जवाब दिया और चला गया.

दरवाज़ा खुला ही था, मैं अन्दर चला गया।
अंदर थोड़ी रोशनी थी. वह बिस्तर पर लेटी हुई थी.

उसने धीमी आवाज़ में दरवाज़ा बंद करने को कहा और मैंने दरवाज़ा बंद कर दिया।

दोस्तो, मैं समझ चुका था कि आज मामी की Chut Chudai का वक्त आ गया है।
लेकिन जब तक लंड चूत में प्रवेश न कर जाये तब तक कुछ भी कहना ठीक नहीं था.

आगे की घटना मैं आपको XXX मामी चुदाई कहानी के अगले भाग में बताऊंगा. तब तक आप कमेंट करके बताये आपको मेरी ये कहानी कैसी लगी।

कहानी का अगला भाग: XXX मामी चुदाई स्टोरी