XXX मामी चुदाई स्टोरी P2


New Sex Stories in
Telugu    Hindi   Kannada   Malayalam   Tamil

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “मामी की वासना को मिला लंड का सहारा: XXX मामी चुदाई स्टोरी भाग 2”। यह कहानी उदय की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

XXX मामी चुदाई स्टोरी में मैंने अपनी जवान मामी की चूत की चुदाई की. जब मामा ने उन्हें नहीं चोदा तो मामी की चूत लंड मांग रही थी. मुझे शादीशुदा औरतें बहुत पसंद हैं…

दोस्तो, मैं उदय आपका अपनी मामी की प्यास बुझाने वाली चुदाई की कहानी में स्वागत करता हूँ।

कहानी के पहले भाग: XXX मामी चुदाई स्टोरी में अब तक आपने पढ़ा था कि मैं मामी के बुलाने पर उनके कमरे में गया था और उनके कहने पर मैंने कमरे का दरवाजा बंद कर लिया था.

अब आगे की XXX मामी चुदाई स्टोरी:

ये माहौल रोज जैसा नहीं था. एक अजीब सी शांति थी. हमारे मन में कुछ और था और हम दोनों कहना कुछ और चाहते थे.

यश गहरी नींद में सो रहा था.

हम दोनों ने कुछ देर तक बातें कीं.
फिर मैं थोड़ी देर लेटने के लिए सामने सोफे पर लेट गया.

हम दोनों के अंदर बहुत कुछ चल रहा था, लेकिन हम कह नहीं पा रहे थे.

वो अपने बिस्तर पर लेटी हुई थी और मेरी तरफ देख रही थी.
मैं सोफे पर लेटा हुआ था और उसकी तरफ मुँह करके उसे देख रहा था।

हमने उसी अवस्था में थोड़ी बात की.
एक जवानी की दहलीज पर कदम रख चुका था और दूसरा जवानी के चरम पर थी.

हम दोनों एक ही कमरे में थे और वो खूबसूरत रात हम दोनों को जला रही थी.
वो मुझे प्यासी नजरों से देख रही थी और मैं भी उसे देख रहा था.

ऐसे ही समय बीतता जा रहा था.
साफ़ था कि मेरे इस कमरे में आने की कोई और वजह थी.
वो मजे कर रही थी और प्यार की भूखी थी.

उसके अंदर महीनों से आग जल रही थी और मेरे अंदर की चिंगारी ने भी आग का रूप ले लिया था.
अगले ही पल मामी ने अपना पल्लू गिरा दिया जिससे उनके Big Boobs दिखने लगे.

वह मुझे अपने स्तन दिखा रही थी और मैं भी उसे देख रहा था।

कुछ देर बाद उसके पेट से पल्लू नीचे सरक गया था और उसका पूरा पेट मुझे दिख रहा था.
मामी के स्तन उनके गहरे गले के कसे हुए ब्लाउज से बाहर आने को तड़प रहे थे।

वो अब भी मुझे वासना से देख रही थी.
ये सब एक तरह से मेरे लिए निमंत्रण था कि आओ और मुझे चोद डालो.

मामी को ऐसा करते देख मैंने आग में घी डालने के लिए उनके सामने अपने शॉर्ट्स में हाथ डाल दिया और अपने लंड को सहलाने लगा. (XXX मामी चुदाई स्टोरी)

वह यह सब देख रही थी और जोर-जोर से सांस भी ले रही थी और अपने स्तनों को उजागर कर रही थी।

अगले ही पल उसने अपना पैर घुटने से मोड़कर ऊपर उठा दिया, जिससे उसकी साड़ी और पेटीकोट नीचे सरक गये.
आह क्या बताऊं दोस्तो, उसकी नंगी और चिकनी जांघें देख कर मेरे होश उड़ गये, जिससे मेरे लंड में जबरदस्त तनाव आ गया.

सब कुछ स्पष्ट था.
वह मेरे साथ नंगी होकर सोना चाहती थी और आज उसे कोई नहीं रोक सकता था।

अब बहुत हो गया.
उसने दर्दभरी धीमी मादक आवाज में कहा- मत तड़पाओ उदय, अब आओ!

उसके इतना कहने के बाद मैं उठा और उसकी ओर बढ़ा.
उसने यश को दूसरे बिस्तर पर लिटा दिया। यह उनके बिस्तर से सटा हुआ था.

मामी ने अपने बिस्तर पर खुद को मेरे सामने पेश कर दिया.

बिस्तर पर आते ही हम दोनों ने एक दूसरे को कस कर गले लगा लिया.

हम दोनों ने एक-दूसरे को जोर से गले लगा लिया और बिस्तर पर गोल-गोल घूमने लगे।
वो मुझे चूमने लगी, चाटने लगी, जगह जगह काटने लगी और अपने नाखूनों से मुझे खरोंचने लगी.

मैंने उसे इस तरह कभी नहीं देखा था.
वह पागल हो गयी थी.

उसने मुझे अपने पैरों से बांध लिया था और मुझे हर जगह चाटने लगी.

मैंने उसके दोनों हाथों को कस कर बिस्तर पर दबा लिया और थोड़ी देर रुक कर उसे चूमना शुरू कर दिया.
उसके कान, गर्दन, हर जगह चूमा।

उनसे भी नहीं रहा गया.
उसने मुझसे कहा- उदय, मेरे कपड़े उतारो.

मैंने उनकी साड़ी खोली और उनका पेटीकोट खोला तो देखा कि उन्होंने पैंटी नहीं पहनी थी.
फिर ब्लाउज खुलते ही उसके स्तन हिलने लगे, अन्दर ब्रा नहीं थी।

मैंने उसके सारे कपड़े उतार दिये.
उसकी चूत पर कुछ जघन बाल थे और उसकी चूत चिपचिपी हो गयी थी.

मैं ऊपर गया और उसके दोनों हाथ बिस्तर पर रख दिये और उसके ऊपर चढ़ गया.

अब मैंने उसके एक मम्मे को पीना शुरू कर दिया, उसके निपल्स को चूस-चूस कर टाइट कर दिया।
फिर मैंने धीरे से अपनी जीभ से निपल्स को सहलाया तो वो पागल हो गयी. (XXX मामी चुदाई स्टोरी)

उसका शरीर वासना की आग में जल रहा था, उसकी मादक आहें निकल रही थीं- ऊह ऊह ऊह आय आआह!

मैंने उसे कई जगह लव बाइट्स भी दिये.
वो बार-बार मेरे अंडरवियर में हाथ डाल रही थी और मेरी गांड में उंगली कर रही थी.

मामी मेरी पैंटी को नीचे की ओर खींच कर उतारना चाहती थीं. मैं उठ गया और बोला- अब इसे उतारो.
उन्होंने मेरा अंडरवियर उतार दिया.

मेरा हथौड़े जैसा लंड अचानक अंडरवियर से बाहर आ गया.
वो लंड देख कर दंग रह गयी.

मेरे लंड पर हरी नसें पूरी तरह से सूज गई थीं।
मामी का मुँह खुल गया था और उन्होंने झट से मेरे लंड को अपने पास ले लिया.
वो लंड हिलाने लगी.

शायद वो उसे मुँह में लेने वाली थी.
मैंने कहा- अभी नहीं.

फिर मैंने टी-शर्ट उतार दी.

उसने मेरे कसे हुए बदन को देखा और मुझे छू लिया.
उसने मेरी छाती को सहलाया, मेरे पेट को ऐसे छुआ मानो पहली बार किसी पुरुष को छू रही हो।

फिर उसने खुद को ऊपर उठाया और अपना मुँह मेरी चूची पर रख दिया.
मैं सिहर उठा और मामी ने मेरे निप्पल को अपने होंठों से दबा कर चूस लिया.
मैं आहें भरने लगा.

अब हम दोनों वासना की आग में जलने लगे थे.

वो सीधी लेट गयी और अपने पैर फैला दिये.
मैं उसके ऊपर चढ़ गया और उसकी गीली Tight Chut को अपने लंड से सहलाने लगा, जिससे उसकी कामुक सिसकारियां निकलने लगीं.

उसने अपने हाथ से मेरा लंड पकड़ा और अपनी चूत में डाल लिया.
मैंने भी दबाव डाला और मेरा लंड अन्दर सरक गया।

You can install this Beep Stories Web App to get easy access

मैं धीरे-धीरे अपना लंड उसकी चूत में डालने लगा और उसके मम्मों को चूसने लगा।
मामी को मजा आने लगा था. वो मेरी गांड को पकड़ कर अपनी चूत में डाल रही थी.

मैं धक्के लगाने लगा. मामी की चूत गीली हो गई थी, जिससे छप-छप की आवाज गूंजने लगी.
वह जोर-जोर से कराह रही थी और मेरे शरीर को अपने शरीर से रगड़ रही थी।

जब मैं उसे पेल रहा था तो वो मेरी गांड को जोर से दबा रही थी और ‘हम्म आह…’ कर रही थी.
ताकि मैं उन्हें और गहराई में पेल सकूं. (XXX मामी चुदाई स्टोरी)

अब मैं भी उन्हें जानवरों की तरह पेलने लगा.

कुछ देर बाद जब मैंने लंड को चूत से बाहर निकाला तो मामी के चेहरे पर गुस्सा दिखने लगा.
मैंने उसके पैर पर हाथ मारा और उसे कुतिया बनने का इशारा किया।

वह खुश हो गई और तुरंत अपनी पोजीशन बदल ली.
मैंने उसे डॉगी पोजीशन में किया और अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया और उसकी गांड पर खूब थप्पड़ मारे और उसकी गांड को खूब नोचा.

उन्होंने बिल्कुल भी अनिच्छा नहीं दिखाई.
उसकी गोल मटोल Moti Gand लाल हो गयी थी.

मैं उसके बाल खींच रहा था और अपना लंड अन्दर तक पेल रहा था- हह हह हह हाँ हाँ हाँ हाँ आह मादरचोद … ले लंड ले साली कुतिया.

मेरे मुँह से गाली सुनते ही वह कामोन्माद हो गयी और कराहने लगी.
यह दूसरी बार झड़ रही थी.

अब मेरी बारी थी.
मैंने अपना लंड बाहर निकाला और उसके पेट और स्तनों पर अपने लंड का माल निचोड़ दिया।

हम दोनों थक गये थे.

मैंने मामी को अपनी बांहों में ले लिया और कम्बल से ढक दिया और अंदर ही अंदर उन्हें चूमने लगा.
वो भी मुझे चूमने लगी.

हम दोनों एक दूसरे की जीभ को चूसने लगे, खूब चाटा और काटा भी।
मामी ने अपनी एक टांग मेरे ऊपर रख दी.
मैं उसकी गांड में उंगली करने लगा.

ऐसे ही हम दोनों चूमते रहे और एक दूसरे की गांड में उंगली करते रहे.

कुछ देर बाद हमने फिर से सेक्स किया और हम दोनों सो गये.

सुबह हो गयी।
जब हम उठे तो हम दोनों नंगे थे, एक दूसरे से चिपके हुए थे, बिल्कुल लॉक थे।
मेरा लंड खड़ा हो गया था, लेकिन अगर मैं अभी Chut Chudai करता तो काफी टाइम लगता.

तो मैं नंगा ही उठा और अपने कपड़े लेकर कमरे में चला गया।
मैं वहां सिर्फ अंडरवियर पहन कर सो गया.

अब 9 बज चुके थे.

मामी नहा चुकी थीं. उनके चेहरे पर संतुष्टि के साफ भाव थे.
सब कुछ ख़ुशी से हो गया. वह बहुत अच्छा दिन था.

मैं नीचे आया, उन्हें देखा.
उसने मुझे देख कर बहुत प्यारी सी मुस्कान दी.

मैं नहाने चला गया.
फिर नाश्ता करने आये और टीवी देखने लगे.

बड़े मामा भी टीवी देख रहे थे.
वो आई, प्लेट रखी और मुझे अपने स्तन दिखाए.

मैं उसके स्तनों की दरार देख सकता था, वह जानबूझ कर उन्हें हिलाने लगी और एक कातिल मुस्कान देने लगी।

सेक्स के बाद अब हमारे बीच कुछ भी छिपा नहीं था।
हमने पूरी रात बिना कपड़ों के गुजारी.

दोपहर हो गई.

नाना, नानी और बड़े मामा सभी खेत गये हुए थे।

अब मामी और कोई भी मुझे नहीं रोक सकता था.
बड़ी मामी नीचे सो रही थीं. उनकी बेटी की शादी हो गयी. छोटे मामा शहर में थे और इधर मैं अपनी छोटी मामी को चोदता था और वो अपनी चूत मेरे लंड से चुदवाती थीं. (XXX मामी चुदाई स्टोरी)

अब तो दिन हो या रात मैं उसके पास ही रहता था.
मैं दोपहर को उसके कमरे में जाता था.

जैसे ही यश सोता, मैं और मामी एक दूसरे को चूमने लगते।
मैं उसके स्तनों को दबाता था और उन्हें चूमता था.
वो मेरे लंड को हिलाती थी और चूसती थी.

हम दोनों दोपहर को उसके कमरे में तरह-तरह के खेल खेलते थे।
अपने कपड़े उतारते, एक-दूसरे की मालिश करते, तेल लगाते।

कभी-कभी मैं उसे सीढ़ियों पर अपनी गोद में बैठा लेता और चूम लेता और उसका ब्लाउज उठाकर उसके दूध पी लेता।

हम दोनों में से किसी को कोई शर्म नहीं थी.
जब वो नहाती थी तो मैं भी बाथरूम में चला जाता था.

सब लोग खाना खाते थे, मैं कुछ लेने के बहाने रसोई में जाता और वहां उसके स्तन दबाता और उसकी साड़ी पेटीकोट ऊपर करके उसकी चूत में उंगली डालता। हमें छुप छुप कर ऐसी बातें करने में मजा आने लगा.

किसी को पता नहीं चला कि हम दोनों ने क्या किया.

जब भी सब लोग एक साथ बैठे होते और लाइट चली जाती तो हम दोनों अंधेरे में ही एक-दूसरे को चूमना और छूना शुरू कर देते। यह बहुत ही मज़ेदार था। (XXX मामी चुदाई स्टोरी)

मैं हमेशा रात को उसके कमरे में जाता था.
उधर हम दोनों अलग-अलग पोजीशन में पेला-पेली करते रहे.

सबके सो जाने के बाद पूरे घर में नंगे घूमते, फिर कहीं भी जाकर खूब सेक्स करते।
कभी-कभी हम छत पर चले जाते, नंगे लेट जाते, तारे देखते और वहां सेक्स का मजा लेते।

शाम को जब सब घर आते तो कभी-कभी हम दोनों खेत घूमने निकल जाते।

घूमने के बहाने हम खेतों में फसलों के बीच खड़े होकर किस भी करते थे और सेक्स भी करते थे.
ये सब बहुत रोमांचक होता था.

अब वो मुझसे प्यार करने लगी है. उसे इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि मामा घर आते हैं या नहीं। ऐसा कुछ हफ्तों तक चलता रहा. अब मैं घर आ गया हूं. जब मैं घर वापस आ रहा था तो वह बहुत रोई. (XXX मामी चुदाई स्टोरी)

आने से एक रात पहले हमने कई बार सेक्स किया और पूरी रात खेल चलता रहा. ना वो सोई ना मुझे सोने दिया.
पूरी रात मामी ने मुझे अपनी बांहों में भर कर रखा. उसने मेरा लंड चूसा, हिलाया और खूब रोई.

उसने मुझसे हर हफ्ते किसी न किसी बहाने से आने को कहा.
मैं भी जाता हूं और हम खूब सेक्स करते हैं.

यश का जन्मदिन भी आ रहा है और मामा भी आएंगे।
लेकिन मामी ने कहा है कि वो रात को मेरे साथ सोयेंगी।

अब उसे मामा से कोई परेशानी नहीं है. वे जहां भी अपना चक्कर चलाना चाहते हैं, उन्हें अपना चक्कर चलाने दें।

दोस्तो, मैं आपसे अगली सेक्स कहानी में मिलूंगा, जिसमें मैंने मामा के रहते हुए अपनी मामी को कैसे चोदा. उसके साथ नंगा सोया, उसके स्तनों को चूसकर मजा लिया।

आपको मेरी XXX मामी चुदाई स्टोरी कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएं।

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “” की कहानियां पढ़ सकते हैं।